राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना (Rajiv Gandhi Grameen Vidyutikaran Yojana in Hindi)

राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना : (आरजीजीवीवाई) या ग्रामीण विद्युत मूलसंरचना एवं गृह विद्युतीकरण योजना की शुरुआत 2005 में की गई थी जिसका उद्देश्य सभी ग्रामीण आवासों को बिजली उपलब्ध कराना है। योजना के लिए 90 प्रतिशत राशि केंद्र सरकार द्वारा एवं 10 प्रतिशत राशि ग्रामीण विद्युतीकरण निगम द्वारा दी गई है।

इस योजना के अंतर्गत 1000 दिनों में 18,452 गांव तक बिजली पहुंचाई जाएगी। इस योजना के अंतर्गत विशेष श्रेणी के राज्य को 85% का अनुदान दिया जाएगा तथा अन्य राज्य को 60% का अनुदान दिया जाएगा। इस योजना के लिए नोडल एजेंसी ग्रामीण विद्युतीकरण निगम लिमिटेड है। सभी डिस्कॉम इस योजना के अंतर्गत वित्तीय सहायता के पात्र हैं।

जैसे कि हमने आपको पिछले कई लेखों में यह भी बताया कि सरकार ने ग्रामीण लोगों को रोजगार देने के लिए शिक्षा देने के लिए और आर्थिक रूप से पैसे व धनराशि प्रदान करने के लिए काफी सारी योजना निकाली पर आज भी लोग उन योजनाओं का लाभ उठाते हैं। और अपने आप को समस्याओं से बाहर निकालते हैं।

राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना कांग्रेस सरकार द्वारा राजीव गांधी जी के समय

में स्थापित की गई थी। और इसकी स्थापना का वर्ष अप्रैल 2005 को था इस योजना का मुख्य उद्देश्य सरकार के द्वारा जो लोग ग्रामीण क्षेत्रों में रहते हैं तथा जिनकी आर्थिक सुविधा की आर्थिक हालत कमजोर है कमजोर का मतलब काफी कमजोर कि वह सामान्य सुविधाओं को भी अपने लिए उपलब्ध नहीं करवा सकते।

राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना के तहत भारत सरकार द्वारा राज्य सरकारों को 90% अनुदान के रूप में और 10% ग्रामीण विद्युतीकरण निगम (आरईसी) द्वारा राज्य सरकारों को ऋण के रूप में प्रदान किया जा रहा है। और जो इस योजना की नोडल एजेंसी के तौर पर कार्यरत है उसका नाम है ग्रामीण विद्युतीकरण निगम।

राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना के मुख्य बिंदु (Key Highlights of Rajiv Gandhi Grameen Vidyutikaran Yojana in Hindi) :

योजना का नाम :राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना
योजना कब शुरू की गयी :2005
योजना किसके द्वारा शुरू की गयी :केंद्र सरकार
योजना का उद्देश्य :ग्रामीण क्षेत्रों में विद्युतीकरण की सुविधा
योजना की अधिकारिक पोर्टल :यहां क्लिक करें

राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना की विशेषताएं (Features Of Rajiv Gandhi Grameen Vidyutikaran Yojana in Hindi) :

  • इस योजना के तहत राज्य सरकार को यह सुनिश्चित करना है की दलित बस्तियों से
    वितरण ट्रांसफार्मर और वितरण लाइनों की उपलब्धता कर आना अति आवश्यक है अगर वह यह करने में सक्षम नहीं रहती है तो इसकी जिम्मेदार राज्य सरकार को ठहराया जाएगा।
  • इस योजना के तहत राज्य सरकार को यह भी सुनिश्चित करना है कि हर सार्वजनिक स्थानों जैसे स्कूलों, पंचायत कार्यालयों, स्वास्थ्य केंद्रों, औषधालयों, सामुदायिक केंद्रों आदि में बिजली की आपूर्ति करना भी अति आवश्यक है।
  • इस योजना के तहत राज्य सरकार को कम से कम 10% घरों में विद्युतीकरण की सुविधा को प्रदान करना है अगर वह करने में असफल रहती है तो जैसा कि हम जानते कि वही जिम्मेदार होगी।
  • इस योजना के तहत भारत सरकार का लक्ष्य है कि 2009 तक 100000 घरों में विद्युतीकरण की सुविधा को उपलब्ध करवाना और 2.34 करोड़ बीपीएल परिवारों सहित 7.8 करोड़ ग्रामीण परिवारों को  विद्युतीकरण की सुविधा भी उपलब्ध कराना।
  • इस योजना के तहत भारत सरकार द्वारा निर्धारित उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए सरकार द्वारा विद्युतीकरण योजना के तहत 16,000 करोड़ प्रदान की गई।
  • इस योजना के तहत भारत सरकार द्वारा 90% कैपिटल सब्सिडी यानी 90% की छूट दी गई है।
  • इस योजना के तहत राज्य सरकार को यह सुनिश्चित करना है कि ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों में बराबरी के तौर पर विद्युतीकरण का सप्लाई किया जाए अगर यह नहीं किया जाता तो इसके लिए राज्य सरकार को जिम्मेदार ठहराया जाएगा।

Also Read :

Mahatma Gandhi Adarsh Gram Yojana (महात्मा गांधी आदर्श ग्राम योजना)
Rajiv Gandhi Jal Sanchay Yojana (राजीव गांधी जल संचय योजना)
Mukhyamantri Yuva Sambal Yojana (राजस्थान मुख्यमंत्री युवा सम्बल योजना)
राजस्‍थान स्वजल योजना (Rajasthan Swajal Yojana)
Indira Gandhi Matritva Poshan Yojana: (इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना 2021)

राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना के उद्देश्य (Objective Of Rajiv Gandhi Grameen Vidyutikaran Yojana in Hindi) :

  • राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना गरीब वर्ग के ग्रामीण लोगों के लिए उपलब्ध करवाई गई भारत सरकार की अब तक की सबसे सफल पूर्वक योजना है इस योजना का उद्देश्य गरीब वर्ग के परिवारों के लिए विद्युतीकरण की सुविधा उपलब्ध करवाना जिस सेवा विद्युतीकरण के लाभ उठाकर अपने बच्चों को शिक्षित कर सकते हैं और वही बच्चे आगे जाकर हमारे देश का भविष्य सुधरेगा।
  • इसके अलावा, ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के बीच आपूर्ति के घंटों में कोई भेदभाव नहीं होगा। अगर ऐसा कोई पैदा होता है तो इसके जिम्मेदार राज्य सरकार को ठहराया जाएगा क्योंकि विद्युतीकरण की जरूरत सबको है और इस पर सब का समान रूप से अधिकार है।
  • इस योजना का महत्व सिर्फ विद्युतीकरण देना ही नहीं है लेकिन विद्युतीकरण के होने वाले फायदों को पहचान करना भी है जैसे गांव में विद्युतीकरण की सुविधा देने से नई तकनीकों का आगमन होगा जिससे कृषि वर्ग के लोग नई तकनीको और औजारों से विद्युतीकरण की सहायता के कारण इसका उपयोग कर पाएगी और इससे कृषि के क्षेत्र में हमारा विकास होगा।