Categories: Education

Reporter रिपोर्टर बनने के लिए क्या करें? Anchor के लिए क्या पढाई करें?

Reporter रिपोर्टर प्रत्येक युवा बेहतर करियर बनाने एक अच्छे मार्ग का चयन करता है, और उसके लिए मेहनत करता है। प्रत्येक युवा यह चाहता है, कि वह जीवन में कुछ अच्छा करें, सभी अपनी पसंद का क्षेत्र चुनकर उसमें आगे बढ़ते हैं। बहुत से युवा पत्रकारिता के क्षेत्र में करियर बनाना चाहते हैं। 12वीं के बाद से ही वह इसकी तैयारी में लग जाते हैं। न्यूज़ रिपोर्टर बनने के अंतर्गत जिनको अपने आस-पास की घटना, परिस्थिति को देखने का, सोचने का शौक रहता है, उनके लिए न्यूज़ रिपोर्टर एक अच्छा विकल्प होता है।

न्यूज़ रिपोर्टर किसे कहते है (Who is A News Reporter In Hindi)

रिपोर्टर का शाब्दिक अर्थ संवाद करने या लिखने वाले व्यक्ति से है। न्यूज़ रिपोर्टर समाचार जगत का एक अहम् व्यक्ति होता है। न्यूज़ रिपोर्टर का मुख्य कार्य समाचारों का संकलन करना होता है। पत्रकारिता की भाषा में, किसी भी घटना के बारें में उसे कम से कम और सरल शब्दों में लिखकर और तैयार कर किसी सम्बन्धित समाचार माध्यम के लिए प्रस्तुत करने को रिपोर्टिंग कहा जाता है, इस रिपोर्ट को तैयार करने वाले को रिपोर्टर कहते है रिपोर्ट सरल व कम शब्दों में अधिक बात को समझाने वाली होनी चाहिए। यह रिपोर्टर की योग्यता पर निर्भर करता है।

Reporter हेतु महतवपूर्ण जानकारी (Important Information For News Reporter In Hindi)

  • न्यूज़ रिपोर्टर (संवाददाता) बनने के लिए सोचने समझने की अच्छी शक्ति होनी चाहिए।
  • साहस एवं धैर्य होना अत्यंत आवश्यक है।
  • ऐसा बोलना आना चाहिए जो सभी लोग आसानी से समझ सके।
  • हिंदी और अंग्रेजी का अच्छा ज्ञान होना चाहिए।
  • किसी उलझन को सुलझाने की क्षमता होना चाहिए।
  • कंप्यूटर की जानकारी होनी चाहिए।

Reporter हेतु शैक्षणिक योग्यता (Educational Qualification for Reporter In Hindi)

रिपोर्टर बनने के लिए आवेदक को कम से कम 12वीं कक्षा में 50% अंकों के साथ उतीर्ण होना चाहिए। यदि 12वीं कक्षा पास है, तो स्ट्रीम के अनुसार कोर्स का चयन कर सकते हैं कुछ कोर्सेस स्नातक स्तर के होते हैं, जिन्हें करने के लिए स्नातक होना अनिवार्य होता है

Reporter कोर्सेस (News Reporter Courses In Hindi )

बैचलर ऑफ़ आर्ट – जर्नलिज्म (Bachelor of Art - Journalism)

यह कोर्स 12वीं के बाद कर सकते हैं। इस कोर्स में बेसिक एवं जर्नलिज्म के विभिन्न क्षेत्रों के बारे में जानकारी दी जाती है। कोर्स को करने के लिए 50% के साथ 12वीं पास होना जरूरी है। कोर्स की अवधि तीन वर्ष होती है।

बैचलर ऑफ़ साइंस – एनीमेशन एंड मल्टीमीडिया (Bachelor of Science – Animation and Multimedia)

यह टेक्निकल डिग्री कोर्स है। इस कोर्स को करने पर न्यूज़ चैनल प्रिंट मीडिया, इन स्थानों पर बड़े पदों पर नौकरी मिलती है। कोर्स के अंतर्गत एनीमेशन, मल्टीमीडिया के साथ-साथ विसुअल एडिटिंग, ग्राफ़िक्स, वीडियो मेकिंग सिखाया जाता है। यह कोर्स 12वीं के बाद कर सकते हैं, और 12वीं में 50 % अंकों के साथ पास होना चाहिए।

बैचलर ऑफ़ जर्नलिज्म एवं मॉस कम्युनिकेशन (Bachelor of Journalism and Mass Communication)

यह कोर्स पत्रकारिता एवं उससे जुड़े दूसरे विषयों से सम्बन्धित होता है इस कोर्स के अंतर्गत बेसिक से लेकर एडवांस जर्नलिज्म की जानकारी दी जाती है। यह कोर्स करने के बाद न्यूज़

चैनल, प्रिंट मीडिया, रिपोर्टर, एडिटर इन पदों पर नौकरी कर सकते हैं। यह कोर्स करने के लिए 50% के साथ 12वीं पास होना ज़रुरी है।

जर्नलिज्म डिप्लोमा कोर्स की जानकारी (Journalism Diploma Course Information In Hindi )

न्यूज़ रिपोर्टर बनने हेतु डिप्लोमा करना चाहते हैं, तो एग्जीक्यूटिव डिप्लोमा इन जर्नलिज्म कर सकते हैं। जिसकी समय अवधि एक वर्ष होती है। इस कोर्स को ग्रेजुएशन के बाद कर सकते हैं। इस डिप्लोमा कोर्स को करने के बाद कम समय में ही पत्रकारिता को अच्छे से समझ सकते हैं। यदि ग्रेजुएशन कम्पलीट कर चुके हैं, और मास्टर डिग्री करना चाहते हैं, तो भी इस क्षेत्र में कोर्स उपलब्ध है। जैसे -

  • Master of Art (Journalism) (मास्टर ऑफ आर्ट (जर्नलिज़्म))
  • Master of Art (Mass Communication) (मास्टर ऑफ आर्ट (मास कम्युनिकेशन))
  • PG Diploma in Journalism and Mass Communication (पीजी डिप्लोमा इन जर्नलिज़्म एंड मास कम्युनिकेशन)
  • PG Diploma in Broadcast Journalism (पीजी डिप्लोमा इन ब्रॉडकास्ट जर्नलिज्म)
  • Executive Diploma in Journalism (एग्जीक्यूटिव डिप्लोमा इन जर्नलिज्म)
  • sports journalism (स्पोर्ट्स जर्नलिज़्म)
  • investigative journalism (इनवेस्टिगेटिव जर्नलिज़्म)
  • multimedia journalism (मल्टीमीडिया जर्नलिज़्म)

Reporter के कार्य (News Reporter's Functions In Hindi )

  1. एक न्यूज़ रिपोर्टर अपनी आसपास की घटनाओं पर न्यूज़ बनाता है, मुख्य कार्य न्यूज़ तैयार करना होता है।
  2. न्यूज़ रिपोर्टर समाचार पत्र, टेलीविज़न एवं ई-न्यूज़ के माध्यम से लोगों को जानकरी पहुँचाते हैं।
  3. देश-दुनिया में हो रही घटनाओं और लोगों के बारे में ताज़ा जानकारी के बारे में सूचना प्रदान करते हैं।
  4. केवल सूचना और शिक्षा प्रदान करने तक ही सीमित नहीं, इसका क्षेत्र बहुत विस्तृत हो गया है। यह लोगों का मनोरंजन करने के माध्यम के रूप में उभरकर सामने भी आया है।
  5. पत्रकारिता लोकतंत्र की सुरक्षा और बचाव का सबसे बड़ा माध्यम है। नेता इसके माध्यम से जनता तक पहुँच पाते हैं। पत्रकारिता के माध्यम से उनके द्वारा किये गए कार्य को जनता तक पहुँचाया जाता है।

पत्रकारिता के प्रकार (Types of journalism In Hindi)

न्यूज़ को कवर करने के लिए न्यूज़ रिपोर्टर के विभाग बँटे होते हैं, और वह अपने विभाग के लिए ही कार्य करता है। पहली जनरल रिपोर्टिंग होती है, जिसमें समारोह, भाषण, और कार्यक्रम कवर किये जाते हैं। दूसरी ख़ास रिपोर्टिंग होती है, इसका क्षेत्र ज़्यादा बड़ा होता है। इसमें व्यापार, राजनीतिक, खेल, अदालत, फिल्म-सांस्कृतिक गतिविधियाँ आती हैं।

राजनीतिक रिपोर्टिंग (Political reporting)

इसके अंतर्गत संसद, विधानसभा, मंत्रालय, प्रेस-कांफ्रेंस, राजनीतिक पार्टियाँ और उसके नेता तथा दूसरे देशों की राजनीतिक गतिविधियों पर नजर रखी जाती है।

व्यापारिक रिपोर्टिंग (Business reporting)

आर्थिक और व्यापारिक खबरों को लोगों तक पहुँचाना व्यापारिक पत्रकारिता कहलाती है। अर्थव्यवस्था से सम्बंधित तकनीकी बातें आम जनता से जुड़ी होती है। जिसका लोगों को सही ज्ञान नहीं होता है। सरकार का कौन-सा आर्थिक कदम जनता के लिए लाभदायक होगा और कौन-सा कदम नुकसान पहुँचाने वाला इसे सरल भाषा में व्यापार और आर्थिक खबरों से जुड़े रिपोर्टर के द्वारा जनता तक पहुँचाया जाता है।

Also Read :

CAT पेपर करने से क्या होता है? CAT करके क्या बन सकते हैं? कौन दे सकते हैं CAT?

खेल जगत (Sport Word)

इस क्षेत्र के अंतर्गत रिपोर्टर को खेल जैसे क्रिकेट, हॉकी, फुटबाल और टेनिस जैसे लोकप्रिय खेलों की समझ होना चाहिए। रिपोर्टर को खेलों के तकनीकी शब्दों का भी ध्यान होना चाहिए। इस क्षेत्र के रिपोर्टर को अधिक सक्रिय रहने की आवश्यकता होती है।

अपराध (Crime)

अपराध से सम्बंधित खबर देने वाले रिपोर्टर को IPC आईपीसी, CRPC सीआरपीसी, की अच्छी जानकारी होना आवश्यक है। साथ ही यह भी ज़रुरी है, कि पुलिस प्रशासन में अच्छी पहचान हो।

फिल्म और सांस्कृतिक (Film And Cultural)

फिल्म और सांस्कृतिक ख़बरों को ख़ास रिपोर्टर कवर करते हैं। इस क्षेत्र पत्रकारिता करने के लिए रिपोर्टर को सिनेमा और टीवी से जुड़ी सभी बातों की जानकारी होनी चाहिए, इसके अलावा देश-विदेश के संगीत, नृत्य, और दूसरी सांस्कृतिक गतिविधियों की जानकारी होना आवश्यक है।

Reporter का वेतन (News Reporter Salary In Hindi)

वेतन पद एवं अनुभव पर निर्भर करता है, शुरुआत में वेतन 15,000 से 30,000 प्रतिमाह होती है, इसके बाद वेतन बढ़ता जाता है पत्रकारिता करने वाले कर्मचारियों को वेतन उनके पदों एवं अनुभवों के आधार पर दिया जाता है।