Categories: Uncategorized
| On 4 months ago

अब्दुल कादिर एवम सचिन तेंदुलकर का महान मुकाबला।

63 साल की उम्र में पाकिस्तान के महान लेग स्पिनर अब्दुल कादिर का लाहौर में निधन हो गया। इस महान लेग स्पिनर को श्रद्धांजलि के साथ ही हमको एक वाक्या जरूर याद आता है जब उनका मुकाबला भारत के युवा सचिन तेंदुलकर से हुआ था।

अब्दुल कादिर एक महान लेग स्पिनर

अब्दुल कादिर जबरदस्त लेग स्पिनर थे एवम आस्ट्रेलिया के महान स्पिन गेंदबाज शेन वार्न तक उनको स्पिन गेंदबाजी में अपना गुरु मानते थे। कादिर पाकिस्तान क्रिकेट टीम के मुख्य चयनकर्ता भी रहे थे। उनकी क्रिकेट की समझ इतनी जबरदस्त थी कि उनकी चुनी हुई टीम ने पाकिस्तान के लिए ICC का T20 कप भी जीता था। अब्दुल कादिर के बारे में बात करते हुए इमरान खान ने कहा था कि अब्दुल कादिर के वक्त में लेग स्पिनर को जब बैट्समैन फ्रंट फुट पर खेलता था तो उसे एलबीडब्ल्यू करार नही दिया जाता था और उनके जमाने मे रेफरल सिस्टम भी नही था अन्यथा उनको पता नही कितने विकेट मिलते? एक बार वेस्टइंडीज के महान बैट्समैन विवियन रिचर्ड्स ने भी इमरान खान को कहा था कि कादिर शेन वार्न से कही बेहतर लेग स्पिनर थे।

कादिर का किरदार

कादिर ने एक हालिया साक्षात्कार में सचिन तेंदुलकर की तारीफ में कहा

था कि सचिन तेंदुलकर अपने शुरुआती दौर में भी चुनौती से पीछे कभी नही हटते थे। सचिन ने उनके एक ओवर में चार छक्के अपने शुरुआती दौर में लगाये थे लेकिन कादिर ने कहा था कि उनको सचिन बहुत प्रिय थे एवम सचिन बहुत अच्छा खेलते थे। यह कादिर का बेहतरीन किरदार ही था कि उन्होंने सचिन से प्रतिस्पर्धा नही बल्कि प्रेम रखा।

वह मैच जिसने सचिन को सफल बनाया।

पाकिस्तान के गुजरांवाला में 1989 में एक अंतरराष्ट्रीय वनडे मैच को बरसात के कारण रद्द कर के प्रदर्शनी मैच में बदल दिया गया था। इस मैच में सचिन ने जे श्रीकांत के साथ मैच में ओपनिंग की थी। कादिर ने सचिन को कहा था कि अगर वो उनकी बाल पर एक छक्का मार सकते है तो भविष्य में एक बड़े खिलाड़ी बन सकते है। 16 साल के सचिन तेंदुलकर ने उनके अगले ओवर में एक नही बल्कि 4 छक्के मार दिए थे। सचिन तेंदुलकर ने इस ओवर के बाद निरन्तर सफलता प्राप्त की थी एवम उनके फेन तो उनको " गॉड ऑफ क्रिकेट " तक कहते हैं। उस ओवर में कादिर की गेंदों पर स्कोर 1,6,6,6,4,3 हुआ था। इस ओवर की शुरुआत में तेंदुलकर 19 पर बेटिंग कर रहे थे।

ऐसा भी बताया जाता

है कि इस रोमांचक ओवर से पहले जब सचिन ने मुश्ताक अहमद के ओवर में 2 छक्के लगाए थे तब कादिर ने सचिन को कहा था कि इस बच्चे यानी मुश्ताक को क्या छक्के लगाते हो अगर लगा सकते हो तो मेरे ओवर में एक छक्का लगाकर बताना। सचिन ने कादिर को एक नही बल्कि चार छक्के लगाकर जबाब दिया था। सचिन मैच के दौरान बेहद शांत रहते थे लेकिन उनका बल्ला आग उगलता था। कादिर को इससे पहले कोई बल्लेबाज एक ओवर में इतने छक्के नही मार सका था। कादिर सचिन की जबरदस्त बल्लेबाजी पर नाराज नही हुए बल्कि उन्होंने तालियाँ बजाकर सचिन तेंदुलकर की हौसलाअफजाई भी की। यह ओवर दो महान खिलाड़ियों के बीच परीक्षण था जिसमे दोनों ही विजेता थे। सचिन ने अपना हुनर दिखाया था एवम कादिर ने अपना किरदार।

कादिर की जुबानी सचिन की कहानी।

कादिर ने एक इंटरव्यू में बताया कि उनको सचिन तेंदुलकर के प्रति विशेष प्रकार का लगाव एवम प्रेम था क्योंकि सचिन तब बहुत छोटे से बच्चे थे लेकिन उनमे एक महान बल्लेबाज की झलक दिख रही थी। कादिर उस प्रदर्शन मैच को याद करके यह भी कहते थे कि उन्होंने उस प्रदर्शन मैच में सचिन को बहुत गम्भीरता से बोलिंग की थी एवम उनका

प्रयास था कि वे सचिन तेंदुलकर को आउट कर सके लेकिन सचिन ने अपनी सक्षमता, टेलेंट व स्किल सिद्ध करते हुए उन्हें छक्के जड़े थे। अब्दुल कादिर सचिन तेंदुलकर पर बड़े अपनत्व से यह भी कहते थे कि वो छोटा सा बच्चा जब पाकिस्तान के तेज गेंदबाजों का मुकाबला करता था तो उनको बहुत अच्छा भी लगता था।

अब्दुल कादिर के शब्दों में, 'मैं जब बॉलिंग करने आया तो श्रीकांत और सचिन तेंदुलकर क्रीज पर थे। मैंने मेडन ओवर फेंका और श्रीकांत इस पर कोई रन नहीं बना सके थे। इसके बाद मैंने सचिन से कहा कि यह कोई वनडे मैच नहीं है और तुम मुझे अगले ओवर में छक्का मारने की कोशिश करो। इससे तुम्हारा भी नाम हो जाएगा। सचिन ने उस वक्त मुझसे कुछ नहीं कहा। लेकिन जब मैं अगला ओवर करने आया तो सचिन ही क्रीज पर थे। उन्होंने मुझे तीन छक्के मारे. सचिन ने इसी मैच में मुश्ताक अहमद को चार छक्के मारे अब्दुल कादिर ने यह भी कहा, 'ऐसा नहीं है कि प्रदर्शनी मैच होने के कारण मैं इसे हल्के में ले रहा था।मैं तो पूरी संजीदगी से बॉलिंग कर रहा था. मैंने सचिन को पूरी क्षमता से गेंदबाजी करते हुए आउट करने की कोशिश की थी लेकिन यह उनकी क्षमता थी कि उन्होंने मेरे ओवर में तीन छक्के लगा दिए '

कादिर का कैरियर

लाहौर में जन्मे कादिर का इंटरनेशनल करियर 16 साल का रहा था। उन्होंने 67 टेस्ट और 104 वनडे मैच खेले थे।अब्दुल कादिर ने पाकिस्तान के लिए 67 टेस्ट मैचों में 236 विकेट झटके थे। दूसरी ओर उन्होंने 104 वनडे मुकाबलों में 132 विकेट अपने नाम किए थे। अब्दुल कादिर खान एक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर थे जिन्होंने पाकिस्तान के लिए लेग स्पिन गेंदबाजी की थी। कादिर को सभी रूप से 1970 और 1980 के दशक के सर्वश्रेष्ठ लेग स्पिनरों में से एक के रूप में माना जाता है और वे स्पिनरों के आने और आने के लिए एक आदर्श थे। बाद में वह एक कमेंटेटर और पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के मुख्य चयनकर्ता थे, जिसमें से उन्होंने पाकिस्तान क्रिकेट के प्रमुख प्रशासकों के साथ मतभेद के कारण इस्तीफा दे दिया।

Tags: cricket