| On 1 year ago

Sukanaya Samriddhi Accccounts : Useful saving plan for girl kids.

Share

Sukanaya Samriddhi Accccounts : Useful saving plan for girls

सुकन्या समृद्धि खाता : बालिकाओं हेतु एक महत्वपूर्ण बचत योजना।

सुकन्या समृद्धि खाता योजना भारत की बचत योजना है जिसमे बालिकाओं के माता-पिता अथवा अभिभावक किसी भी अधिकृत बैंक या पोस्ट ऑफिस में सुकन्या समृद्धि खाता खोलकर बालिकाओं के समृद्ध भविष्य का आधार रख सकते है। इस खाते में जमा राशि पर बहुत अच्छी दर से रिटर्न मिल रहा है।वर्तमान में सम्पूर्ण राष्ट्र में " बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ" की मुहिम चल रही है तो इसके साथ "बेटी के भविष्य हेतु धन बचाओ" भी बहुत ही जरूरी है। इस खाते के महत्वपूर्ण तथ्य निम्नलिखित है-1. यह खाता 10 वर्ष तक की आयु की लडकी का खोला जा सकता है।
2. एक लडकी के नाम से एक ही खाता एवं एक परिवार से अधिकतम दो लडकियों के नाम से
खाता खोला जा सकता है।
3. यह खाता न्यूनतम 250 ₹ रूपये की राशि से खोला जा सकता है।
4. लडकी की आयु 21 वर्ष होने पर खाता बन्द किया जा सकता है। अथवा लडकी की आयु 18 वर्ष हो गई हो तो विवाह हो जाने पर भी खाते को बन्द किया जा सकता है।
5. प्रत्येक वर्ष खाते में न्यूनतम 1000/रूपये वार्षिक एवं अधिकतम 150000/रूपये वार्षिक जमा करवाये जा सकते है।
6. इस खाते पर वर्तमान वार्षिक व्याज की दर 8.4 प्रतिशत है।
7. यह खाता किसी भी अधिकृत बैंक या डाक घर में खोला जा सकता है।
8. सुकन्‍या समृद्धि खाता कार्यक्रम का सबसे बड़ा लाभ यह है कि इसमें कर छूट प्रदान की जाती है। जमा की जाने वाली रकम और परिपक्‍व रकम को आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत कर छूट उपलब्ध है।
9. इस योजना का लाभ एनआरआई नही ले सकते।
10. इसमें 10 वर्ष से अधिक आयु की बालिकाओं का खाता नही खोला जा सकता है।
11. एक बार खाता खोल लिए जाने के पश्चात उसे पूरे भारत में कही भी शिफ्ट किया जा सकता हैं।
12. खाता खोलने के लिए बालिका का जन्म प्रमाणपत्र, अभिभावकों के निवास प्रमाणपत्र व पैन कार्ड की आवश्यकता होती हैं।
13. खाते को सक्रिय रखने हेतु इसमें वर्ष में एक बार न्यूनतम राशि जमा करवानी होती है अन्यथा 50/- वार्षिक की पेनल्टी लगती है।
14. किसी माता-पिता की पहले एक लड़की हो तथा इसके बाद में अगर जुड़वा बालिकाओं का जन्म हो जाये तो ऐसे माता-पिता 3 बालिकाओं के खाते खुलवा सकते है।
15. इस खाते की एक बड़ी खासियत यह भी है कि यदि परिपक्वता अवधि के पश्चात भी खाता बन्द नही किया जाता है तो ब्याज निरन्तर देय है।नोट- समस्त संस्थाप्रधानो से यह निवेदन है कि इस महत्वपूर्ण योजना की जानकारी बालिकाओं के अभिभावकों तक पहुंचा कर अधिकतम खाते खुलवाने का प्रयास करें।