Categories: Health

गुर्दे की पथरी के लक्षण और कारण (Symptoms and Causes of Kidney Stones in Hindi)

गुर्दे की पथरी के लक्षण और कारण - गुर्दे की पथरी को नेफ्रोलिथिआरीस भी कहा जाता है। गुर्दे की पथरी एक क्रिस्टलीय खनिज का पदार्थ है जो गुर्दे या मूत्र पथ में कहीं भी हो सकती है। एक छोटा पत्थर बिना लक्षण के मूत्र के साथ बाहर निकल जाता है। किन्तु यदि पथरी 5 MM(एमएम) से ज्यादा का होता है तो यह मूत्रमार्ग में रुकावट पैदा कर सकता है, जिसके परिणामस्वरूप दर्द और उल्टी के लक्षण उत्पन्न होते हैं। बहुत से कारक इन पत्थरों के विकास के जोखिम को बढ़ा सकते है।

गुर्दे की पथरी के लक्षण और कारण (Symptoms and Causes of Kidney Stones in Hindi) :

आनुवांशिकी और पर्यावरणीय कारकों के संयोजन के कारण अधिकांश पथरी बनती है। इसके जोखिम कारक मूत्र में कैल्शियम का उच्च स्तर, मोटापा, खाद्य पदार्थ, दवाइयाँ, Calcium (कैल्शियम) की खुराक, गाउट और पर्याप्त तरल पदार्थ न मिलना शामिल होता है। यूरीन में मौजूद Chemical कैमिकल यूरिक एसिड, Phosphorus (फॉस्फोरस), Calcium (कैल्शियम), Oxalic Acid ऑक्जालिक एसिड मिलकर पथरी बना देते है।

Kidney Stone (गुर्दे की पथरी) (Calculi) Minerals (मिनरल्स) और नमक से बनी एक ठोस जमावट का कारण होती है। इसका माप छोटे से लेकर बड़ा भी हो सकता है। यह गुर्दे  में या मूत्रपथ में अधिकांश पाई जाती है। मूत्रपथ में गुर्दे, मूत्रवाहिनी (Ureter), मूत्राशय (Bladder), मूत्रमार्ग, (urethra) होते हैं।

किडनी स्टोन या गुर्दे की पथरी क्या है? (What is Kidney Stone in Hindi):

आयुर्वेद में Stone (पथरी) (Calculi) को अश्मरी कहा जाता है, पथरी में वात दोष मूत्राशय में आये हुए शुक्र सहित मूत्र को या पित्त के साथ कफ को सूखा देते हैं जिसके कारण Stone (पथरी) बनती है। जब यह अश्मरी मूत्र मार्ग में आती है तब मूत्र त्यागने में रुकावट और असहनीय पीड़ा उत्पन्न होती है। जिसके कारण अंडकोष से लेकर लिंग मूत्राशय एवं पार्श्व तक में पीड़ा होती रहती है। वात के कारण यह अश्मरी टुकड़े-टुकड़े होकर मूत्र मार्ग से निकलती है तब इसे आयुर्वेद में शर्करा कहा गया है।

Kidney Stone (गुर्दे की पथरी) चार प्रकार की होती हैं -

  • Calcium Stone (कैल्शियम स्टोन(
  • Uric Acid Stone (यूरिक एसिड स्टोन)
  • Struvite Stone (स्ट्रूविटा स्टोन)
  • Cystine Stone (सिस्टिन स्टोन)

सामान्यतौर पर इनमें Calcium Stone (कैल्शियम स्टोन) और Uric Acid Stone (यूरिक एसिड स्टोन) सबसे ज्यादा पाये जाते हैं।

किडनी स्टोन या गुर्दे में पथरी क्यों होती है? (Causes of Kidney Stone in Hindi):

  • पानी का बहुत कम मात्रा पीना इसका प्रमुख कारण रहता है
  • मूत्र/यूरीन में Chemical (कैमिकल) की मात्रा अधिक होना
  • शरीर में Minerals (मिनरल्स) की कमी होना
  • Dehydration (डिहाइड्रेशन) होना
  • Vitamin D (विटामिन डी) की शरीर में मात्रा अधिक होना
  • JunkFood (जंक फूड) का उपयोग अधिक करना

गुर्दे की पथरी के लक्षण (Symptoms of Kidney Stone in Hindi):

  1. मूत्र/यूरिन त्यागते समय दर्द होना
  2. कमर/पीठ के नीचे वाले भाग में दर्द होना
  3. पेट में दर्द होना
  4. ऐंठन होना
  5. मूत्र/यूरिन में Blood (रक्त) आना
  6. बैचेनी, घबराहट, जी मितलाना
  7. उल्टी आना
  8. बदबूदार/दुर्गन्धयुक्त मूत्र/पेशाब/यूरिन आना
  9. बार-बार मूत्र/पेशाब आना
  10. ठीक से मूत्र/पेशाब का न आना
  11. बुखार और अधिक पसीना निकलना

किडनी स्टोन या गुर्दे की पथरी से बचने के उपाय (How to Prevent Kidney Stone in Hindi):

  • Kidney Stone (गुर्दे की पथरी) न हो उसके लिए आहार और दिनचर्या में कुछ बदलाव जरूर लाने चाहिए।
  • जो Calcuim Oxalate (कैल्शियम ऑक्जालेट) Kidney Stone (गुर्दे की पथरी) से पीड़ित होते है ऐसे पीड़ितों को Oxalate (ऑक्जालेट) से भर-पूर आहार नहीं लेना चाहिए। ये आहार हैं-
    • मूंगफली
    • पालक
    • चुकन्दर
    • शीशम के बीज
    • Chocolate (चॉकलेट)
    • शकरकंद/जिमीकंद (Sweet Potatoes)
  • Protin (प्रोटीन) का कम मात्रा में उपयोग करना
  • Sodiyum (सोडियम) अधिक मात्रा में उपयोग नहीं करना
  • Junk Food (जंक फूड), डिब्बा बंद खाना और नमक का अधिक उपयोग नहीं करना चाहिए
  • पालक, साबुत अनाज आदि में Oxalate (ऑक्सलेट) पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। तो उनका प्रयोग न करें।
  • टमाटर के बीज, बैंगन के बीज, कच्चे चावल, उड़द और चने के अधिक उपयोग से Stone (स्टोन) की समस्या बढ़ जाती है।
  • पानी अधिक मात्रा में पिएँ
  • Cold Drink (कोल्ड ड्रिंक) का सेवन बिल्क़ुल न करें, क्योंकि इनमें मौजूद Phosphoric Acid Stone (फॉस्फोरिक एसिड स्टोन) के खतरे को बढ़ाते हैं ।
  • शरीर में Uric Acid (यूरिक एसिड) को बढ़ाने से बचें
  • मांस का सेवन बिल्कुल न करें।

यह भी पढ़े :

गुर्दे की पथरी निकालने के घरेलू उपाय (Home Remedies for Kidney Stone in Hindi):

  • सौंफ का मिश्रण Kidney Stone (गुर्दे की पथरी) निकालने में मदद करता है
  • तुलसी Kidney Stone (गुर्दे की पथरी) के इलाज में लाभकारी होती है
  • चौलाई की सब्जी Kidney Stone (गुर्दे की पथरी) से राहत दिलाती है
  • बेलपत्र खाने से Kidney Stone (गुर्दे की पथरी) में मदद मिलती है
  • Kidney Stone (गुर्दे की पथरी) से निज़ात पाने में Vitamin B (विटामिन बी) कारगर साबित होता है
  • इलायची के मिश्रण से Kidney Stone (गुर्दे की पथरी) को दूर कर सकते हैं
  • Kidney Stone (गुर्दे की पथरी) में सहायक होता है पानी
  • नींबू और Olive Oil (ऑलिव ऑयल) का मिश्रण Kidney Stone (गुर्दे की पथरी) में सहायक
  • सेब का सिरका गुर्दे की पथरी के इलाज में लाभकारी होता है
  • अनार का जूस गुर्दे की पथरी के लिए उपयोगी
  • तरबूज गुर्दे की पथरी निकलने में मदद करता है
  • राजमा गुर्दे की पथरी के इलाज में लाभकारी होता है
  • प्याज का पानी गुर्दे की पथरी निकालने में फायदेमंद होता है
  • कॉर्न हेयर या कॉर्न सिल्क (मकई) गुर्दे की पथरी के इलाज में फायदेमंद होते हैं
  • व्हीट ग्रास गुर्दे की पथरी निकालने में सहायक
  • खजूर गुर्दे की पथरी होने के खतरे को कम करता है
  • खीरे का उपयोग गुर्दे की पथरी निकालने में लाभकारी

डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए? (When to See a Doctor in Hindi):

गुर्दे की पथरी का दर्द बहुत ही असहनीय और देर तक बना रह सकता है। इसके दर्द के साथ जी मिचलाना और उल्टी जैसे लक्षण भी दिखाई देते है। Kidney Stone (गुर्दे की पथरी) के कारण गुर्दे या मूत्रपथ में संक्रमण का खतरा भी हो सकता है Kidney Stone (गुर्दे की पथरी) में दर्द उठने पर तुरंत डॉक्टर से परामर्श/सम्पर्क कर जाँच करवानी चाहिए और Kidney Stone (गुर्दे की पथरी) होने पर उसका तुरंत इलाज करवाना चाहिए