Categories: Health

हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण और उपचार (Symptoms and Treatment of High Blood Pressure in Hindi)

हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण और उपचार - High Blood Pressure उच्च रक्तचाप या हाइपरटेंशन जिसे हम धमनी उच्च रक्तचाप भी कहते हैं, उच्च रक्तचाप एक पुरानी चिकित्सीय स्थिति है जिससे शरीर की धमनियों में रक्त का दबाव(दाब) बढ़ जाता है। रक्तचाप में दो माप शामिल होती हैं Sistolic(सिस्टोलिक)और Daystolic (डायस्टोलिक) जो इस बात पर निर्भर करती है कि जो Heart(हृदय) की मांसपेशियों में संकुचन Sistolic(सिस्टोलिक) हो रहा है। या धड़कनों में तनाव मुक्तता Daystolic (डायस्टोलिक) हो रही है।

सामान्य रक्तचाप 100-140 mmHg Sistolic(सिस्टोलिक) High Riding (उच्चतम-रीडिंग) और 60-90 mmHg Daystolic (डायस्टोलिक) Low Riding (निचली-रीडिंग) की सीमा के भीतर होता है। High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप) तब होता है जब यह 90/140 mmHg पर या इससे ऊपर लगातार बढ़ता रहता है। Hypertension (हाइपरटेंशन) प्राथमिक (मूलभूत) High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप) तथा द्वितीयक उच्च रक्तचाप के रूप में वर्गीकृत किया जाता है। 90% से 95% मामले "प्राथमिक उच्च रक्तचाप" के रूप में वर्गीकृत किये जाते हैं, जिसका अर्थ है।

हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण और उपचार (Symptoms and Treatment of High Blood Pressure in Hindi) :

अंतर्निहित चिकित्सीय कारण के बिना High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप) में अन्य परिस्थितियां जो गुर्दे, धमनियों, हृदय , या अंतःस्रावी प्रणाली को प्रभावित करती हैं, शेष 5% से 10% मामलों में (द्वितीयक उच्च रक्तचाप) का कारण होती है। Hypertension Strock (हाइपरटेंशन स्ट्रोक ) मायोकार्डियल रोधगलन (दिल के दौरे), हृदय की विफ़लता धमनियों में धमनी विस्फार (महाधमनी धमनी विस्फार), परिधीय धमनी रोग जैसे जोखिमों का कारक है जो किडनी रोग का कारण है। धमनियों से रक्त के दबाव में मध्यम दर्जे की वृद्धि भी जीवन प्रत्याशा के साथ जुड़ी हुई है। आहार व जीवन शैली में परिवर्तन Blood Pressure (रक्तचाप) Control (नियंत्रण) में सुधार और संबंधित स्वास्थ्य जटिलताओं के जोखिम को कम कर सकते हैं।

हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण क्या हैं? (High Blood Pressure Symptoms in Hindi) :

  1. थकान महसूस होती है =  High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप )का लक्षण रोगी को बार-बार थकान का महसूस होना यदि रोगी को किसी भी काम करने में काफी थकान महसूस होती है तो इस समस्या को नज़रअदाज़ नहीं करना चाहिए क्योंकि यह किसी गंभीर समस्या कारूप ले सकती है ।
  2. सांस लेने में तकलीफ होती है =  High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) से ग्रसित लोगों को इस बीमारी में सांस लेने में तकलीफ होने लगती है।
  3. सीने में दर्द होता है= High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) से ग्रसित लोगों में व्यक्ति के सीने में दर्द होता है
  4. सरदर्द होता है=  यह High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) का प्रमुख लक्षण होता है जिसमें रोगी को लगातार सरदर्द होता है। वैसे तो सरदर्द को तनाव का कारण समझा जाता है तब तो यह दवाई के सेवन से सही किया जा सकता है। लेकिन यदि यह समस्या लंबे समय तक रहती है तो यह High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) का रूप भी ले सकती है।
  5. हृदय की धड़कन अनियमित गति से चलना=  High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) में हृदय की धड़कने की गति अनियमित चलने लगती है।
  6. नाक में से खून आना = लंबे समय से High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) की बीमारी से ग्रसित रोगी की संवहनी नाजुक होने से नाक से खून निकलता है

उच्च रक्तचाप क्यों होता है? (High Blood Pressure Causes in Hindi) :

  • तनाव अधिक लेना= तनाव के दौर में लोगों को बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है। इसमें High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) की शिकायत हो सकती है
  • व्यायाम/ योग
    न करना= व्यक्ति के तंदुरुस्त रहने में व्यायाम/ योग महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है क्योंकि यह शरीर की मांसपेशियों को मजबूत करने के साथ व्यक्ति की Immunity (रोग-प्रतिरोधक) क्षमता को भी बढ़ाता है।लेकिन यदि कोई व्यक्ति नियमित रूप से व्यायाम/योग नहीं करता है तो उसमें High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) बीमारी के होने का खतरा बढ़ जाता है।
  • खाने में ज्यादा नमक का उपयोग करना/ खाना= व्यक्ति यदि खाने में ज्यादा नमक लेता है, तो उस व्यक्ति में High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) बीमारी होने की संभावना ज्यादा बढ़ जाती है।
  • अधिक वजन होना= मोटापे की वजह से कई सारी बीमारियों का खतरा काफी हद तक बढ़ जाता है।उसमें High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप )जैसी बीमारी पर भी लागू होती है जिनमें High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप )वजन के अधिक होने की वजह से होता है।
  • Smoking (धूम्रपान) करना- High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) की बीमारी उन लोगों में  होने की संभावना अधिक होती है, जो धूम्रपान ज्यादा करते हैं।ऐसे लोगों को अपने स्वास्थ का ध्यान रखना चाहिए जिससे उन्हें High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) बीमारी का सामना न करना पड़े

हाई ब्लड प्रेशर का इलाज कैसे करें? (High Blood Pressure Treatments in Hindi) :

असंतुलित भोजन और असंतुलित जीवनशैली के कारण भी High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) होता है,

  • वजन(मोटापा) बढ़ने के साथ High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) भी बढ़ता है। अधिक वजन(मोटापा) सोते समय सांस लेने में बाधा उत्पन्न करता है, जिससे High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप )बढ़ता है
  • प्रतिदिन 20 से 25 मिनट तक व्यायाम/ योगा करें।
  • स्वस्थ आहार में साबुत अनाज, Fruit (फल), Vegitables (सब्जियां), Dairy Products (डेरी प्रोडक्ट्स )और कम वसा वाले भोजन से High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) कम हो जाता है।
  • High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप )
    के रोगी को अपने आहार में Megnishiyam (मैग्निशियम), Calcium (कैल्शियम) और Poteshiyam (पोटेशियम) से भरपूर पदार्थ खाने चाहिए।
  • दूध, हरी सब्जियां, दाल, सोयाबीन, प्याज, लहसुन और संतरें में पोषक तत्व होते हैं।
  • रोज 4 अखरोट या 5 से 7 बादाम खाएं।
  • High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) में फलों में सेब, अमरूद, अनार, केला, अंगूर, अनानास, मौसंबी, पपीता खाना चाहिए
  • रोज सुबह खाली पेट लहसुन की 2 कलियां खाएं।
  • खट्टे फल, नींबू पानी, सूप, नारियल पानी, सोया, अलसी और काले चने खाएं।
  • पानी अधिक मात्रा में पीये।
  • भोजन के लिए सोयाबीन तेल का उपयोग करें
  • प्याज, टमाटर, मूली, गाजर, खीरा, गोभी का प्रयोग करने से High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) Normal (सामान्य) हो जाता है।
  • बिना मलाई वाला दूध पियें
  • High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) होने में Omega -3 (ओमेगा-3) को शामिल करना चाहिए
  • High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) वाले व्यक्ति को Dark Choclate (डार्क चॉक्लेट) का सेवन करना चाहिए। Dark Choclate (डार्क चॉक्लेट) से High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप )कम होता है।

यह भी पढ़े :

उच्च रक्तचाप के जोखिम क्या हो सकते हैं? (High Blood Pressure Complications in Hindi) :

  • दिल का दौरा आना
  • किडनी खराब होना
  • सर में रक्त वाहिकाओं की नसों का टूटना
  • भूलने की बीमारी
  • आँखों में परेशानी

हाई ब्लड प्रेशर की रोकथाम कैसे करें? (High Blood Pressure Precautions in Hindi) :

  1. व्यायाम-योग करना- सभी के लिए व्यायाम करना फायदेमंद होता है, क्योंकि यह मांसपेशियोंं को मजबूत करता है और साथ ही रोग-प्रतिरोधक क्षमता (Immunity Power) को भी बेहतर बना
    ता है
  2. कम नमक वाला भोजन करना-  High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) की बीमारी उन लोगों में होती है, जो अधिक नमक वाला भोजन करते हैं। इसी कारण उनमे High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) यह बीमारी पनप जाती है अर्थ यह है की जितना हो सके नमक का ऊपर से उपयोग काम करें
  3. नशीले पदार्थों का सेवन न करना- नशीले पदार्थों को लाभदायक नहीं माना जाता है क्योंकि यह सेहत  को खराब करते हैं।अत: यदि कोई High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) की रोकथाम करना चाहता है तो उसे नशीले पदार्थों के सेवन से बचना चाहिए।
  4. Blood Pressure (रक्तचाप) की नियमित रूप से जांच करना-Blood Pressure रक्तचाप की नियमित रूप से जांच करनी चाहिए
  5. Doctor (डॉक्टर) के संपर्क में रहना- High Blood Pressure (उच्च रक्तचाप ) के लिए डॉक्टर के संपर्क में रहना चाहिए