Categories: Full Form
| On 2 weeks ago

UGC NET Full Form in Hindi | यूजीसी नेट का फुल फॉर्म क्या है?

UGC NET Full Form in Hindi | यूजीसी नेट का फुल फॉर्म क्या है?

UGC NET का फुल फॉर्म (UGC NET Full Form in Hindi) अथवा पूरा नाम की बात करे तो ये शब्द दोनों अलग अलग हैं | UGC का अर्थ होता हैं , यूनिवर्सिटी ग्रांट कमिशन University Grants Commission जिसे हिंदी में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग कहा जाता हैं | दूसरा शब्द NET जिसे नेशनल एलिजिबिलिटी टेस्ट National Eligibility Test अथवा हिंदी में राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा के रूप में जाना जाता हैं |

UGC NET Full Form in Hindi | यूजीसी नेट से जुडी विशेष जानकारियां |

  • एनटीए यूजीसी नेट एक राष्ट्रीय स्तर की परीक्षा है जो उन उम्मीदवारों को खोजने के लिए आयोजित की जाती है जो सहायक प्रोफेसर या जेआरएफ (जूनियर रिसर्च फेलोशिप) और सहायक प्रोफेसर दोनों के पद के लिए पात्र हैं ।
  • हर साल करीब 10 लाख उम्मीदवार विभिन्न क्षेत्रों में लेक्चरर या शोधकर्ता बनने के लिए इस परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन कराते हैं । यदि आप इन क्षेत्रों में करियर को आगे बढ़ाने के इच्छुक हैं, तो एनटीए नेट २०२१ परीक्षा में शामिल होना सबसे अच्छा निर्णय होगा ।
  • यह एक राष्ट्रीय स्तर की पात्रता परीक्षा है, जिसका आयोजन विश्विद्यालय अनुदान आयोग (UGC) के लिए सीबीएसई या नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के माध्यम से कराया जाता है | इस परीक्षा का आयोजन  पोस्ट ग्रेजुएट छात्रों को भारत में विश्विद्यालय स्तर पर शिक्षक की नौकरी के लिए और पीएचडी स्तर के कार्यक्रमों में प्रवेश प्राप्त करने में किया जाता है | यह परीक्षा अभ्यर्थी की शिक्षण व्यवसाय और अनुसंधान की योग्यता की जाँच करती है | यह परास्नातक में सम्मिलित किये गए सभी विषयों के लिए आयोजित की जाती है, आप अपने विषय के अनुसार इसकी तैयारी कर सकते है |

UGC NET Full Form in Hindi | UGC NET Eligibility criteria | यूजीसी नेट पात्रता मानदंड |

  • अब तक आपने जान लिया है यूजीसी नेट का फुल फॉर्म (UGC NET full form in Hindi) के बारे में, अब जानते है यूजीसी नेट पात्रता मानदंड क्या है (UGC NET Eligibility criteria in Hindi) के बारे में।
  • जब किसी परीक्षा के लिए पात्रता मानदंड की बात आती है, तो बहुत सारे नियम और शर्तें होती हैं। लेकिन इसे संक्षेप में कहने के लिए, आपको यूजीसी नेट जेआरएफ परीक्षा के लिए आधिकारिक यूजीसी नेट अधिसूचना 2021 के अनुसार आवेदन करने के लिए निम्नलिखित मानदंडों को पूरा करना चाहिए।
  • राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी ने परीक्षा की आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से यूजीसी नेट पात्रता मानदंड  (UGC NET  Eligibility Criteria) को निर्दिष्ट किया है। यूजीसी नेट 2021 पात्रता आवश्यकताओं को पूरा
    करने वाले उम्मीदवार यूजीसी नेट परीक्षा के लिए उपस्थित हो सकेंगे और अंततः शिक्षक बनने के अंतिम लक्ष्य की ओर बढ़ेंगे। यूजीसी नेट 2021 पात्रता मानदंड (UGC NET Eligibility Criteria) में आयु सीमा, शैक्षणिक योग्यता और अन्य ऐसी शर्तें शामिल हैं जिन्हें उम्मीदवारों को यूजीसी नेट परीक्षा के लिए योग्य माना जाना चाहिए। यूजीसी नेट  पात्रता मानदंड की विशेष जानकारी के लिए ब्राउसर का लिंक नीचे दिया गया है। पात्रता मानदंड को पूरा करने वाले उम्मीदवार यूजीसी नेट आवेदन पत्र 2021 को पूरा करने में सक्षम होंगे। यूजीसी नेट पात्रता मानदंड के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करने के लिए इस लेख को पढ़ें।
  • आयु योग्यता

महीने की पहली तारीख को आपकी आयु 31 वर्ष से कम होनी चाहिए जिसमें UGC NET JRF परीक्षा पंजीकरण प्रक्रिया संपन्न होगी। UGC NET JRF 2021 परीक्षा के लिए ऊपरी आयु सीमा में भी छूट दी गई है जिसे UGC NET 2021 परीक्षा में चेक किया जा सकता है। NET के लिए कोई आयु सीमा नहीं है, अर्थात, सहायक प्रोफेसरशिप।

  • यूजीसी नेट के लिए शैक्षिक योग्यता (सामान्य)

आपके पास UGC द्वारा मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय / संस्थान से न्यूनतम 55% अंकों के साथ मास्टर डिग्री होनी चाहिए (यह SC / ST / PWD / ट्रांसजेंडर उम्मीदवार के मामले में 50%) या ग्रेड होगा।

  • ओपन / अनारक्षित श्रेणी से संबंधित उम्मीदवारों को अपने मास्टर या समकक्ष डिग्री में न्यूनतम 55% स्कोर करना चाहिए।
  • ओबीसी / एसटी / एससी / पीडब्ल्यूडी / थर्ड जेंडर उम्मीदवारों को मास्टर्स या समकक्ष डिग्री में न्यूनतम 50% कुल अंक प्राप्त करने की आवश्यकता होती है।
  • उम्मीदवार जो वर्तमान में अपनी परास्नातक डिग्री के अंतिम वर्ष में हैं, वे भी यूजीसी नेट 2021 के लिए पात्र हैं, जो कि दो साल के भीतर ऊपर दी गई शैक्षिक आवश्यकताओं को पूरा करते हैं।
  • यूजीसी नेट 2021 पात्रता मानदंड (UGC NET Eligibility Criteria 2021) के अनुसार, पीएचडी धारक जिन्होंने 19 सितंबर, 1992 से पहले अपनी स्नातकोत्तर की डिग्री पूरी कर ली है, वे 5% कुल अंकों की छूट पाने के पात्र हैं।
  • जिन आवेदकों के पास किसी भारतीय विश्वविद्यालय या संस्थान से स्नातकोत्तर डिप्लोमा / प्रमाण पत्र है या किसी विदेशी विश्वविद्यालय या संस्थान से डिग्री / डिप्लोमा / प्रमाण पत्र पूरा कर लिया है, उन्हें यह सुनिश्चित करना होगा कि उनकी स्नातकोत्तर डिग्री एसोसिएशन ऑफ इंडियन यूनिवर्सिटीज (एआईयू), नई दिल्ली से भारतीय विश्वविद्यालयों द्वारा मान्यता प्राप्त है

आयु

इस परीक्षा में जूनियर रिसर्च फैलोशिप के लिए आयु सीमा 28 वर्ष निर्धारित की गयी है और सहायक प्रोफेसर के लिए आयु सीमा निर्धारित नहीं की गयी है |

शैक्षिक योग्यता

अभ्यर्थी के परास्नातक में न्यूनतम 55 प्रतिशत अंक होने अनिवार्य है | आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों के लिए 5 प्रतिशत की छूट प्रदान की गयी है |

यूजीसी परीक्षा का आयोजन

यूजीसी नेट परीक्षा का आयोजन वर्ष में दो बार किया जाता है | जिसकी अधिसूचना मार्च और सितम्बर में जारी की जाती है और परीक्षा का आयोजन क्रमशः जून और दिसम्बर में किया जाता है |

परीक्षा पैटर्न

नेट परीक्षा में दो पेपर निर्धारित किये गए है, यह दोनों पेपर कम्प्यूटर बेस्ड आधारित होंगे और दोनों पेपर में वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्न पूछे जायेंगे | प्रथम पेपर में 50 प्रश्न पूछे जायेंगे, जिनके लिए 100 अंक निर्धारित रहते है और समयावधि एक घंटे है | दूसरे पेपर में कुल 100 प्रश्न पूछे जायेंगे, जिसके लिए 200 अंक निर्धारित किये गए गए है और इसके लिए दो घंटे निर्धारित है | नेट परीक्षा में कुल 150 प्रश्न पूछे जायेंगे जिसके लिए 300 अंक निर्धारित है और समय 3 घंटे है |

प्रक्रिया

1.यूजीसी(UGC NET Full Form in Hindi ) की अधिसूचना जारी होना |

2.अभ्यर्थी द्वारा ऑनलाइन आवेदन पत्र भरना |

3.सफलतापूर्वक आवेदन के पश्चात यूजीसी द्वारा एडमिट कार्ड जारी करना |

4.अभ्यर्थी द्वारा एडमिट कार्ड डाउनलोड करना और निर्धारित समय और स्थान पर परीक्षा देना |

5.परीक्षा के पश्चात यूजीसी द्वारा आंसर की जारी करना |

6.कुछ समय के बाद यूजीसी के द्वारा परीक्षा फल जारी करना |

7.यदि अभ्यर्थी सफल होता है, तो वह विश्वविद्यालय या महाविद्यालय में शिक्षक पद के लिए आवेदन कर सकता है, और पीएचडी प्रोग्राम के लिए आवेदन कर सकता है |

UGC NET Full Form in Hindi | How to Become an Assistant Professor with UGC NET? | यूजीसी नेट से असिस्टेंट प्रोफेसर कैसे बने?

अब तक आपने जान लिया है यूजीसी नेट का फुल फॉर्म (UGC NET full form in Hindi) के बारे में, अब जानते है यूजीसी नेट से असिस्टेंट प्रोफेसर कैसे बने (Become Assistant Professor with UGC NET) के बारे में।

जिन लोगो ने निश्चय किये है की वो विश्वविद्यालय स्तर पर एक शिक्षक की नौकरी करना चाहते है उन्हें UGC NET परीक्षा के लिए खूब मेहनत करनी होगी। परीक्षा में अच्छे अंक से पास होने के लिए नीचे दी गई युक्तियों के अनुसार काम करें :-

UGC NET किसी भी सरकारी या प्राइवेट कॉलेज में प्रोफेसर की नौकरी करने के लिए एक अनिवार्य परीक्षा है। National Testing एजेंसी द्वारा University Grants Commission के ओर इस परीक्षा का आयोजन किया जाता है जो आपकी सहायक प्रोफेसर या जूनियर रिसर्च फैलोशिप के पद के लिए पात्रता का प्रमाण देता है। UGC NET Exam 1989-90 से शुरू की गई थी और शुरुवात से ही यह परीक्षा 2 हिस्सों में ली जाती थी। मगर जून 2019 से दोनों पेपर के बिच कोई नहीं होगा जो पहले मिला करता था। UGC NET Exam के परिणाम की एक वैधता है जो JRF के लिए सिर्फ 3 वर्ष है जबकि असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए लाइफटाइम तक है।

जिन लोगो ने निश्चय किये है की वो विश्वविद्यालय स्तर पर एक शिक्षक की नौकरी करना चाहते है उन्हें UGC NET परीक्षा के लिए खूब मेहनत करनी होगी। परीक्षा में अच्छे अंक से पास होने के लिए नीचे दी गई युक्तियों के अनुसार काम करें :-

  • इस परीक्षा में काफी लोगो को उत्तर आते है पर समय के प्रभाव की वजह से वे सारे प्रश्न को पढ़ ही नहीं पाते। इसलिए आप जब अपनी तैयारी कर रहे है, तब टाइम मैनेजमेंट कीजिये ताकि आप ज्यादा से ज्यादा प्रश्न का उत्तर दे सके।
  • यूजीसी नेट नेशनल स्तर की परीक्षा है, जिसे इंडिया में बहुत से लोग देते है। जो यह सोचते है के अंतिम समय में तैयारी हो जाएगा वे बिलकुल ही गलत हैं। आपको कम से कम ६ महीने पहले से ही इसकी तैयारी में जुट जाना है। ताकि आप अच्छे अंक से पास हो पाए।
  • आपको अपने विषय के अनुसार सिलेबस को हिस्सों में बाँट लेना चाहिए जिससे जो आसान है वो
  • जल्दी हो सके। और उसपे निर्भर प्रश्नो के उत्तर आप आसानी से दे सके। जो सही में इस परीक्षा के लिए तैयारी कर रहा है उसे अध्ययन के समय नोट्स भी बनाने चाहिए। जो रिविजन के समय काम आ सके।
  • जैसे आप अपने कॉलेज या स्कूल के समय पिछले वर्ष के पेपर के अनुसार तैयारी करते है। उसी प्रकार UGC NET(UGC NET Full Form in Hindi ) के लिए भी आपको पिछले वर्ष के पेपर को भी ध्यान में रख के तैयारी करे।

असिस्टेंट प्रोफेसर व प्रोफेसर की सैलरी

  • सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों के विभिन्न विभागों में संगठनों में बारी-बारी से लागू होने के साथ ही, यूजीसी ने भी 22 फरवरी 2017 को ‘पे रिव्यू कमेटी’ का गठन किया था. इस कमेटी की सिफारिशों को आधार बनाते हुए आयोग ने हायर एजूकेशनल इंस्टीट्यूशंस में टीचर्स को मिलने वाली सैलरी संशोधन किया. इस संबंध में 02 नवंबर 2017 को अधिसूचना जारी की गयी और नये वेतनमान को 1 जनवरी 2016 से लागू माना गया |
  • सातवें वेतन आयोग के फॉर्मूले को एकेडेमिक में भी अपनाया गया, जिसके तहत पे-बैंड और एकेडेमिक ग्रेड पे समाप्त किया गया और एकेडेमिक लेवल एवं शेल के आधार पर वेतनमान निर्धारित किया गया |
  • पहला एकेडेमिक लेवल (एकेडेमिक ग्रेड पे रु.6000 के अनुरूप) 10 है. इसी प्रकार अन्य एकेडेमिक लेवल्स 11, 12, 13A,14 एवं 15 हैं |
  • किसी भी एकेडेमिक लेवल में प्रत्येक शेल पिछले लेवल के शेल से 3% अधिक है |
  • इंडेक्स ऑफ राशनलाइजेशन (आइओआर) को रु.10,000 वर्तमान एजीपी के लिए 2.67 निर्धारित किया गया जबकि रु.10,000 से अधिक एजीपी वालों के लिए 2.72 रखा गया.

पद से अधिक शैक्षणिक योग्यता वालों को इंसेंटिव

इंसेंटिव स्ट्रक्चर को पे-स्ट्रक्चर में ही शामिल किया गया है जिसके अनुसार एमफिल या पीएचडी डिग्री वालों सीएएस के तहत जल्दी प्रोत्साहित किया जाएगा. इसलिए इस मामले में किसी भी प्रकार का एडवांड इंक्रीमेंट नहीं दिया जाएगा |

इंक्रीमेंट

किसी भी लेवल पर हर शेल में पिछले शेल तुलना में समान पे-मैट्रिक्स पर ही 3% का सालाना इंक्रीमेंट दिया जाएगा |

प्रमोशन

उच्चतर पदों के लिए आवश्यक योग्यता रखने वालों को उस पद के अनुसार प्रमोशन एवं पे-स्ट्रक्चर दिया जाएगा |

एलाउंसेस

यूनिवर्सिटी और कॉलेजों में टीचर्स एवं अन्य शैक्षणिक स्टाफ के लिए एलाउंसेस को केंद्रीय वित्त मंत्रालय के परामर्श के अनुरूप किया जाएगा जो कि सेंट्रल गवर्नमेंट इंम्पलॉइज के अनुसार होगा, जिसके अनुसार यदि 01 जनवरी 2016 से रिवाइज्ड पे नहीं दिया जा रहा है तो पूर्व में लागू सभी एलाउंसेस जारी रहेंगे |

दोस्तों, अब तक आप जान चुके है यूजीसी नेट की फुल फॉर्म के बारे में (UGC NET Full Form in Hindi ), अब जानते है -