Categories: Full Form
| On 4 weeks ago

UPSC Full Form in Hindi | यूपीएससी का फुल फॉर्म क्या है?

UPSC Full Form in Hindi | यूपीएससी का फुल फॉर्म क्या है?

दोस्तों यहाँ हम यूपीएससी फुल फॉर्म (UPSC Full Form in Hindi) के बारे में बात करेंगे | UPSC का फुल फॉर्म– "Union Public Service Commission" होता है , जो(संघ लोक सेवा आयोग) है| संघ लोक सेवा आयोग दो चरणों में आयोजित किया जाता है, जो प्रीलिम्स और मेंस परीक्षा के बाद एक इंटरव्यू भी है| सिविल सेवा परीक्षा और भारत की सबसे कठिन प्रतियोगी परीक्षाओं में से एक है. यूपीएससी की स्थापना 26 जनवरी 1950 को (भारतीय प्रशासनिक सेवा के रूप में) की गई थी |

UPSC अखिल भारतीय सेवाओं, केंद्रीय सेवाओं और संवर्गों के साथ-साथ भारतीय संघ के सशस्त्र बलों के लिए भर्ती प्रक्रिया को आयोजित करता है| UPSC एक राष्ट्रीय स्तर की परीक्षा है जो भारत की केंद्र और राज्य सरकार के तहत 24 सेवाओं में भर्ती के लिए जिम्मेदार है. UPSC Exam भारत की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक है.

UPSC Full Form in Hindi | Special information related to UPSC in addition to the full form of UPSC | यूपीएससी के फुल फॉर्म के अलावा यूपीएससी से जुडी विशेष जानकारियां

अब तक आपने जान लिया है यूपीएससी के फुल फॉर्म (UPSC Full Form in Hindi) के बारे में, अब जानते है यूपीएससी यूपीएससी से जुडी विशेष जानकारियां के बारे में|
Level A  और Level B  कर्मचारियों की भर्ती के लिए एक स्वतंत्र संगठन(independent organization) है. संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) की स्थापना 1 अक्टूबर, 1926 को हुई थी | UPSC की ऑफिसियल वेबसाइट https://www.upsc.gov.in/ UPSC का मुख्यालय नई दिल्ली में है | UPSC देश में हर साल सिविल सेवा परीक्षा आयोजित करता है. इस लेख में यूपीएससी के तहत आने वाले पदों के full form और उससे सम्बंधित जानकारी हम देंगे |

UPSC अर्थात Union Public Service Commission के चयनित उम्मीदवार भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS), भारतीय पुलिस सेवा (IPS) और भारतीय राजस्व सेवा (IRS), भारतीय विदेश सेवा (IFS) आदि पदों पर भर्ती किये जाते हैं.  UPSC   level A और Level B officer’s की विभिन्न क्षेत्रों में भर्ती के लिए परीक्षा का आयोजन करता है. UPSC हर साल सिविल सेवा परीक्षा आयोजित करता है.

UPSC के कार्य -

  • संविधान के अनुच्छेद 320 के तहत अन्‍य बातों के साथ-साथ सिविल सेवाओं तथा पदों के लिए भर्ती संबंधी सभी जिम्मेदारियां आयोग के पास है, ऐसे किसी भी मामले में योग का परामर्श लिया जाना अनिवार्य होता है. संविधान के अनुच्छेद 320 के अंतर्गत UPSC के प्रकार्य इस प्रकार हैं:
  • संघ के लिए सेवाओं में नियुक्‍ति हेतु परीक्षा आयोजित करना
  • साक्षात्‍कार द्वारा चयन से सीधी भर्ती
  • प्रोन्‍नति/ प्रतिनियुक्‍ति/ आमेलन द्वारा अधिकारियों की नियुक्‍ति
  • सरकार के अधीन विभिन्‍न सेवाओं तथा पदों के लिए भर्ती नियम तैयार करना तथा उनमें संशोधन
  • विभिन्‍न सिविल सेवाओं से संबंधित अनुशासनिक मामले
  • भारत के राष्‍ट्रपति द्वारा आयोग को प्रेषित किसी भी मामले में सरकार को परामर्श देना

UPSC Full Form in Hindi | What is the salary of UPSC (IAS)? | यूपीएससी (आईएएस )की सैलरी कितनी होती है?

अब तक आपने जान लिया है यूपीएससी के फुल फॉर्म (UPSC Full Form in Hindi) के बारे में, अब जानते है अब जानते है यूपीएससी (आईएएस )की सैलरी के बारे में|
IAS अधिकारी का पद देश के प्रतिष्ठित पदों में से एक माना जाता है। एक IAS के कार्यकाल में प्रत्येक प्रमोशन के साथ ना सिर्फ उनका पद बढ़ता है बल्कि उनके मासिक वेतन में भी बढ़ोत्तरी होती है।

  • एक IAS अफसर का चयन UPSC(UPSC Full Form in Hindi) सिविल सेवा परीक्षा पास करने के बाद फाइनल कट ऑफ के आधार पर किया जाता है। UPSC सिविल सेवा परीक्षा पास करने के बाद सभी चयनित उम्मीदवारों को मसूरी स्थित लाल बहादुर शास्त्री ट्रेनिंग अकेडमी में ट्रेनिंग के लिए बुलाया जाता है  जहां से उनका IAS बनने का सफर शुरू होता है। आपको बता दें की इस प्रशिक्षण समय के पहले महीने में IAS अफसरों को कोई भी वेतन नहीं मिलता है। एक IAS अधिकारी का वेतन उसके पद और पदोन्नति (प्रमोशन) के आधार पर बढ़ता है।
  • IAS अधिकारियों की जॉइनिंग के समय महंगाई भत्ता (DA) 0% निर्धारित है जो की समय के साथ बढ़ाया जाता है। सभी IAS अधिकारियों का वेतन एक ही स्तर पर शुरू होता है और फिर उनके कार्यकाल और पदोन्नति के साथ बढ़ता है। प्रवेश स्तर पर मूल वेतन प्रत्येक वर्ष प्रारंभिक स्तर पर 3% बढ़ जाता है। कैबिनेट सचिव स्तर पर, यह तय है। प्रवेश स्तर पर हर साल महंगाई भत्ता 0-14% बढ़ जाता है। उच्चतम स्तर पर, डीए बढ़ सकता है।
  • 7th Pay कमीशन के अनुसार अब हर एक IAS अफसर को उसके बेसिक वेतन और TA, DA, HRA के अनुसार ही प्राप्त होगी। हर एक प्रमोशन के बाद IAS की सैलरी विस्तारित होती है।

UPSC Full Form in Hindi | How to become an IAS officer by giving UPSC exam? | यूपीएससी की परीक्षा देकर आईएएस अफसर कैसे बनें ?

अब तक आपने जान लिया है यूपीएससी के फुल फॉर्म (UPSC Full Form in Hindi) के बारे में, अब जानते है यूपीएससी की परीक्षा देकर आईएएस अफसर कैसे बनें(How to become an IAS officer by giving UPSC exam?) के बारे में।भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) को पूर्व में इंपीरियल सिविल सर्विस (आईसीएस) के नाम से जाना जाता था, यह सिविल सेवा परीक्षा है और भारत में सबसे कठिन प्रतियोगी परीक्षाओं में से एक है ।

यह संघ लोक सेवा आयोग द्वारा अखिल भारतीय प्रशासनिक सिविल सेवा के लिए अधिकारियों की भर्ती के लिए आयोजित किया जाता है।  आईएएस परीक्षा के रूप में लोकप्रिय, आधिकारिक तौर पर इसे सिविल सेवा परीक्षा (सीएसई) कहा जाता है, जो हर साल केंद्रीय भर्ती एजेंसी, संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) द्वारा आयोजित किया जाता है ।

  • भारतीय प्रशासनिक सेवा भारत सरकार की प्रमुख प्रशासनिक सिविल सेवा है। पदानुक्रम-वार, IAS, IPS, IFS आदि 24 सेवाओं में सर्वोच्च प्रशासनिक पद है।
  • ये सभी परीक्षाएँ UPSC(UPSC Full Form in Hindi) द्वारा सिविल सेवा परीक्षा (CSE) के माध्यम से नौकरियों के लिए उपयुक्त उम्मीदवारों के चयन के लिए आयोजित की जाती हैं।
  • हर साल लाखों उम्मीदवार इस परीक्षा में शामिल होते हैं, इन प्रतिष्ठित पदों में से एक के माध्यम से प्राप्त करने के लिए अपने भाग्य और कड़ी मेहनत का परीक्षण करते हैं। यह उल्लेख करना महत्वपूर्ण है कि IAS में चयनित किसी भी अधिकारी को केंद्र सरकार, राज्य सरकारों और / या सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों द्वारा नियोजित किया जा सकता है और उसे कलेक्टर, सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों के प्रमुख, आयुक्त, मुख्य सचिव, जैसे कई कार्य भूमिकाओं में जोखिम मिलता है।
  • कैबिनेट सचिव ने कुछ के नाम लिए। भारत से बाहर प्रतिनियुक्ति पर होने पर, IAS अधिकारी अंतर-सरकारी संगठनों जैसे अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF), विश्व बैंक (WB), एशियन इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट बैंक (AIIB), संयुक्त राष्ट्र (UN), या इसके में संलग्न हो सकते हैं। एजेंसियों और एशियाई विकास बैंक (ADB) को कुछ नाम दिए गए हैं।
  • उम्मीदवारों को परीक्षा शुरू करने से पहले यूपीएससी आईएएस पाठ्यक्रम, पैटर्न, पात्रता मानदंड, आवेदन प्रक्रिया और अन्य महत्वपूर्ण विवरण जैसे परीक्षाओं की आवश्यकताओं को जानना और समझना बहुत महत्वपूर्ण है।

UPSC Full Form in Hindi | UPSC Exam Eligibility Criteria | यूपीएससी परीक्षा पात्रता मानदंड |

अब तक आपने जान लिया है यूपीएससी का फुल फॉर्म क्या है (UPSC Full Form in Hindi) के बारे में,

अब जानते है यूपीएससी परीक्षा पात्रता मानदंड (UPSC Exam Eligibility Criteria) के बारे में।संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) भारत की केन्द्रीय संस्था है| यह संस्था (UPSC) सिविल परीक्षा IAS, IFS, NDA, CDS और SCRA जैसे लगभग 24 पदों के लिए परीक्षा का आयोजन करवाता है| या ये कहे की यह भारतीय और केंद्रीय सेवाओं के समूह A और B के कर्मचरियों की परीक्षा की जिम्मेदार एजेंसी है|

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) का गठन आजादी से पहले 1 अक्तूबर 1926 को लोक सेवा आयोग नाम से हुआ था| आजादी के बाद सवैधानिक प्रावधानों के तहत 26 अक्तूबर 1950 लोक सेवा आयोग का पुनर्निर्माण हुआ| जिसका नाम संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) रखा गया| इसे संवैधानिक दर्जा अनुछेद 315 के अंतर्गत स्वायत्ता प्रदान की गई| ताकि यह बिना किसी दबाब के योग्य कर्मचारियों की भर्ती कर सके| यदि आप UPSC Exam की तैयारी के टिप्स जानना चाहते है, तो यहां पढ़ें- तैयारी कैसे करें

भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) भारत में हर युवा की सपने की नौकरियों में से एक है| भारत में लाखों लोग कठिन मेहनत के बाद इसकी परीक्षा में शामिल होकर, इससे और भी प्रतिष्ठित सेवाएं बनाते हैं| आईएएस के साथ, आईएफएस, आईपीएस, आईआरएस और अन्य सहित 24 अन्य सेवाएं भी हैं| यूपीएससी उम्मीदवारों का चयन करने के लिए सालाना आईएएस परीक्षा नामक सिविल सेवा परीक्षा (सीएसई) आयोजित करता है| यह लेख आईएएस परीक्षा पाठ्यक्रम, आईएएस परीक्षा पैटर्न, आईएएस परीक्षा पात्रता, और आयु सीमा इत्यादि का वर्णन करेगा|

सिविल सेवा में शामिल होने वाले छात्र के लिए संघ लोक सेवा आयोग (यू.पी.एस.सी.) द्वारा निम्नलिखित अर्हरता निर्धारित की गई हैं, जैसे-

1. विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) की धारा 1956, द्वारा प्राप्त प्राप्त, किसी राज्य या केंद्रीय विश्वविद्यालय, या ड्रीम्ड विश्वविद्यालय द्वारा स्नातक या समकक्ष की डिग्री|

2. वैसे छात्र जो स्नातक या समकक्ष परीक्षा के परिणाम का इंतजार कर रहे हैं, या अंतिम वर्ष में हैं, वो प्रारंभिक परीक्षा में बैठ सकते है| लेकिन मुख्य परीक्षा में शामिल होने के पूर्व आवेदन पत्र के साथ न्यूनतम शैक्षिक योग्यता की डिग्री संलग्न करना आवश्यक है|

आईएएस परीक्षा पैटर्न (IAS Exam Pattern)

यूपीएससी (UPSC) सिविल सेवा परीक्षा को आईएएस (IAS) परीक्षा के रूप में जाना जाता है, जो यूपीएससी पाठ्यक्रम के अनुसार तीन टायर की परीक्षा प्रक्रिया है| परीक्षा आमतौर पर जून में आयोजित प्रारंभिक परीक्षा शामिल है, इसके बाद नवंबर-दिसंबर में मुख्य बार और मार्च में साक्षात्कार शामिल है| मई के महीने में यूपीएससी (UPSC) द्वारा अंतिम परिणाम प्रकाशित होते है|

हालांकि, शुरुआती परीक्षा अंक रैंकिंग के लिए जिम्मेदार नहीं हैं, जबकि मुख्य और साक्षात्कार के लिए बनाए गए अंक रैंकिंग के लिए गिना जाता है| हालांकि, आईएएस (IAS) परीक्षा को क्रैक करना आसान नहीं है, इसकी कठिन प्रतिस्पर्धा और व्यापक पाठ्यक्रम के कारण, लेकिन स्मार्ट काम, सही दृष्टिकोण, उचित मार्गदर्शन और सही दृष्टिकोण के साथ कड़ी मेहनत से उम्मीदवारों को आईएएस (IAS) परीक्षा में उच्च पद प्राप्त करने के लिए सक्षम बना सकता है, और यह एक वांछित सेवा है|

Nationality | राष्ट्रीयता-

एक उम्मीदवार, जिसके लिए पात्रता प्रमाणपत्र आवश्यक है, उसे परीक्षा में प्रवेश तो मिल सकता है, लेकिन नियुक्ति प्रस्ताव तभी प्रदान किया जाता है, जब भारत सरकार द्वारा उम्मीदवार को आवश्यक पात्रता प्रमाण जारी कर दिया जाता है |

भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) और भारतीय पुलिस सेवा (IPS) के लिए, एक उम्मीदवार भारत का नागरिक होना अनिवार्य है |

अन्य के लिए, एक उम्मीदवार या तो:

1. भारत का नागरिक हो, या

2. नेपाल का नागरिक हो, या

3. भूटान का नागरिक हो, या

4. एक तिब्बती शरणार्थी हो, जो भारत में स्थायी रूप से बसने के इरादे से 1 जनवरी, 1960 के पूर्व भारत आया था|

5. भारतीय मूल का व्यक्ति हो जो पाकिस्तान, बर्मा, श्री लंका, अफ्रीका के पूर्वी देश जैसे केन्या, युगांडा, तंजानिया गणराज्य, ज़ाम्बिया, मालावी, ज़ाइरे, एथियोपिआ और विएतनाम से भारत में स्थायी रूप से बसने के उद्देश्य से आया था|

UPSC Exam Age Limit | आईएएस परीक्षा- आयु सीमा -

न्यूनतम आयु सीमा 21 वर्ष है। आयु सीमा की गणना प्रत्येक वर्ष 1 अगस्त को की जाती है, जिसकी परीक्षा होती है। SC/ST के उम्मीदवारों के लिए आयु सीमा में 5 साल की छुट है| अन्य पिछड़ी जाती के लिए 3 साल की छुट है| आयु सीमा में फेरबदल की सम्भावना रहती है|

UPSC परीक्षा में मौके

1. समान्य श्रेणी के उम्मीदवार के लिए- 4

2. OBC श्रेणी के उम्मीदवार के लिए- 7

3. अन्य क्षेणी के उम्मीदवारों के लिए- असीमित (Unlimited)

UPSC परीक्षा की प्रक्रिया

संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा प्रक्रिया 3 चरणों में सम्पन होती है, जैसे-

  1. प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Exam)
  2. मुख्य परीक्षा (Main Exam)
  3. 3. साक्षात्कार (Interview)

प्रारंभिक परीक्षा

1. इस परीक्षा में उम्मीदवार का आंकलन तर्क और विश्लेषात्मक सवालों के आधार पर किया जाता है|

2. इस परीक्षा के अंक अंतिम अंक के लिए नही गिने जाते|

3. इस परीक्षा में 2 पेपर होते है जो 200 अंक के और समय अवधि 2 घंटे होती है|

4. इस परीक्षा में सफल उम्मीदवार को ही मुख्य परीक्षा के योग्य माना जाता है|

5. सवाल उदेश्य प्रकार के होंगे और अंकन 1/3 होगा|

आईएएस परीक्षा में सफल कैसे हो (How Successful can be IAS Exam)

1. अभ्यर्थियों को कड़ी मेहनत के तरीके को अपनाना चाहिए + स्मार्ट काम + सही दृष्टिकोण + उचित मार्गदर्शन, इसे उचित रणनीति के रूप में जाना जाता है|

2. उचित मार्गदर्शन और दृष्टिकोण उम्मीदवारों के लिए कोचिंग अकादमियों से कक्षा के कमरे को शिक्षण का विकल्प चुनते हैं|

3. विश्वसनीय ऑनलाइन साइटें एक असली खजाना हैं, जो उचित मार्गदर्शन और दृष्टिकोण प्रदान करती है|

4. इसके अलावा, नकली परीक्षणों के महत्व को उपेक्षित नहीं किया जा सकता है|

दोस्तों, अब तक आप जान चुके है यूपीएससी का फुल फॉर्म के बारे में ( UPSC Full Form in Hindi ) , अब जानते है -