Categories: Articles
| On 4 weeks ago

Way to Success for your Kids.

आप अपने बच्चे को एक निश्चित प्रक्रिया अपनाकर सफल बना सकते हैं। बच्चे को सफल बनाने हेतु बच्चे की जन्मजात क्षमता को पहचान कर उनमें क्रमशः विकास करना जारी रखे। आइये ! हम बच्चे को सफल बनाने सम्बंधित सम्पूर्ण प्रक्रिया को समझते है।

Process of Success for your Kids | बच्चे की सफलता की प्रक्रिया

यह सवाल हर अभिभावक के दिमाग में रहता है वे अपने बच्चे को सफल कैसे बनाये? अपने बच्चे को सफल बनाने के लिए हर पेरेंट बच्चे को स्कूल भेजता है, ट्यूशन करवाता है व इसके अलावा उनकों अपने अच्छे संस्कार भी देता है। इसके साथ ही उनको बेहतर परिवेश, बेहतर साथी देने के साथ ही अपनी पूरी कोशिश करता है। अब हम बच्चों को सफल बनाने के लिए कुछ टिप्स की बात करेंगे। लेकिन सबसे पहले हम यह जानने का प्रयास करेंगे कि आखिर काबिल किसे कहते हैं।

Meaning of Success for Kids | बच्चें की सफलता का अर्थ ?

सफलता का सीधा व सरल अर्थ यह है कि व्यक्ति वर्तमान क्षमताओं व स्तिथियों में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर सके। एक सफल व्यक्ति वह है जो अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करें एवम अपनी क्षमता

को विकसित करता रहे तथा स्तिथियों को अपने अनुकूल बनाने का निरन्तर प्रयास करे। अब हम अपने मूल प्रश्न, अपने बच्चे को सफल कैसे बनाये?, पर आते हैं।

Process for success of your Kid |बच्चे को सफल बनाने की प्रक्रिया।

आप अपने बच्चे को सफल बनाने हेतु निम्नलिखित तरीको को अवश्य अपनाए।

बच्चे की सफलता हेतु उसकी क्षमता का आकलन करें | Understand the child's potential for it's success.

बच्चे की क्षमता को समझने के लिए सबसे जरूरी यह है कि आप उसके साथ अधिक से अधिक समय व्यतीत करें। जब भी आप बच्चे के साथ हो तब आप उसको बोलने व किसी कार्य को करने का अधिक अवसर प्रदान करें।

यहाँ सबसे महत्वपूर्ण यह है कि आप बच्चे की कमी नही ढूंढे एवं ना ही उन कमियों को लेकर उनके सामने चर्चा करें। आपको सिर्फ उन चीजों पर फोकस होना है जो वो बेहतर कर रहे है। आप उसके द्वारा की जाने वाली बेहतर क्रियाओं की सूची अपनी डायरी में बना ले।

उसके द्वारा जो भी कार्य अथवा क्रियाएं अधिक बेहतर तरीके से की जा रही है उन क्रियाओं को ओर अधिक करने का उसे अवसर प्रदान करते जाए। जब आपको यह लगे कि वह कोई विशिष्ट कार्य बहुत बेहतरीन अच्छे तरीके से कर रहा है तो उसके उस कार्य पर फोकस होकर एक कार्ययोजना का निर्माण करें। आप बच्चे द्वारा किये जाने वाले अच्छे कार्यो की चर्चा अपने परिवार में अवश्य करें। जब बच्चों के कार्यों की सकारात्मक चर्चा होती है तो बच्चों के आत्मविश्वास में वर्द्धि होती हैं।

बच्चे की सफलता हेतु बच्चे की क्षमता बढ़ाने वाले वातावरण का निर्माण करना । Creating an environment that enhances the child's ability to succeed.

प्रथम चरण में जब आप उसकी किसी विशेष क्षमता से प्रभावित

हो जाये तो उसकी उस विशेष क्षमता को बढ़ावा देने हेतु उसके लिए जरूरी संसाधन उसे प्रदान करके उसके लिए एक अच्छा वातावरण बनाने का प्रयास करें।

उदाहरण के लिए अगर आपका बच्चा अगर आपके ऑब्जर्वेशन के अनुसार चित्रकारी अच्छी प्रकार से कर रहा है तो उसे चित्रकारी हेतु काम मे आने सामग्री उपलब्ध करवाए। जब वह उस सामग्री का प्रयोग ठीक-ठीक करने लगे तो आप उसे कोचिंग दिलवाना आरंभ कीजिये।

कोचिंग हेतु सीधे ही किसी ट्यूशन अथवा क्लासेज की आवश्यकता नही होती है क्योंकि आजकल यूट्यूब पर हर विषय के बेसिक वीडियो व ट्यूटोरियल उपलब्ध है अतः आप उनकी सहायता ले सकते है।

बच्चे की सफलता हेतु अभिभावक अपना इन्वॉल्वमेंट बढ़ाये। Parents should increase their involvement for the success of the child.

बच्चा जब किसी भी क्षेत्र में सीखने के दौर में होता है तब सबसे अधिक सहायता उसके पेरेंट्स ही कर सकते है। इस हेतु आपका पॉजिटिव इन्वॉल्वमेंट बहुत अधिक महत्व रखता है। आप अपने बच्चे द्वारा किये गए कार्यो का विश्लेषण करते हुए अपने पॉजिटिव विचार उसके सामने रखे। आप उन विषयों पर निरन्तर वार्ता बच्चे से करे जो बच्चे हेतु सार्थक हो एवं अभिभावकों की उस विषय पर पकड़ हो।

इन्वॉल्वमेंट के तहत आप उसके अच्छे कार्यो की चर्चा संक्षिप्त में अपने मित्रों, परिवारजनों व पड़ोसियों के साथ कर सकते है। छोटे बच्चे बहुत अटेंशन चाहते है तथा जब उनको पॉजिटिव अटेंशन मिलती है तो वे अपने काम पर और अधिक फोकस हो जाते हैं।

बच्चे की सफलता हेतु इन्वेस्टमेंट शुरू कीजिए। Start investing for the success of the child.

ऐसा माना जाता है कि जब किसी कार्य को करने में रूचि जाग्रत हो जाये तो वह शौक बन जाती है। किसी शौक को अगर पेशा बना लिया जाए तो उसमें

सफलता की संभावना अधिक होती है। अपने बच्चे को सफल बनाने हेतु आप उसके शौक से सम्बंधित सामग्री पर इन्वेस्टमेंट करना आरंभ कर देना चाहिए।

बच्चे की आयु के अनुरूप एवं उसकी अभिरुचि के अनुसार आवश्यक उपकरण, कच्ची सामग्री, कम्प्यूटर, नेट कनेक्शन, प्रिंटर इत्यादि पर क्रमशः धन का विनियोग किया जाना चाहिए।

उपरोक्त प्रकार से आप एक योजनाबद्ध तरिके से अपने बच्चे के जीवन में सफलता सुनिश्चित कर सकते हैं। जीवन में सफलता सुनिश्चित करने वाले तीन मन्त्र कौनसे हैं? इसकी जानकारी हेतु निम्नलिखित आलेख को अवश्य पढ़े। https://shivira.com/how-to-achieve-success/