Categories: Dharma

क्राउन चक्र क्या है? | क्राउन चक्र का महत्व (What is Crown Chakra In Hindi | Significance of Crown Chakra In Hindi)

हमारे सिर के मुकुट पर स्थित, यह वह स्थल है जो हमें भौतिकवादी या भौतिक क्षेत्र से परे आध्यात्मिक क्षेत्र में जाने में मदद करता है। इसमें पिट्यूटरी ग्रंथि, केंद्रीय तंत्रिका तंत्र और सेरेब्रल कॉर्टेक्स भी शामिल हैं। इसकी छाया सफेद या बैंगनी होती है और इसका बीज मंत्र होता है। हमारा सातवां चक्र आत्मज्ञान और श्रेष्ठता का स्रोत है। चूंकि यह भौतिक तल से आगे बढ़ गया है, इसमें आधार तत्व नहीं है। क्राउन चक्र के अनुरूप हिंदू देवता भगवान शिव हैं। आइये विस्तार से पढ़ते है, क्राउन चक्र क्या है?

सातवें चक्र के अधिनियमन में मौन एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। चक्र का जागरण एक प्रवेश द्वार है जो आपको ब्रह्म की अनंत चेतना से जोड़ता है। क्राउन चक्र के खुलेपन को प्राप्त करने से नीरसता दूर हो सकती है और आप एकता में विलीन हो सकते हैं। चक्र की रुकावट या बहुतायत हमारे मन और शरीर को प्रभावित करने वाली बीमारियों का कारण बन सकती है। क्राउन चक्र को हजार पंखुड़ी वाले कमल के रूप में भी जाना जाता है, क्योंकि इसमें कमल के समान समानता होती है जो एक कीचड़ वाली धारा या तालाब में खिलता है।

ओपन क्राउन चक्र होने के लाभ (The Benefits of Having an Open Crown Chakra In Hindi) :

संतुलित सप्तम चक्र होने के अनेक लाभ हैं। जब आपके पास एक खुला मुकुट चर होता है, तो आप आध्यात्मिक संबंध प्राप्त कर सकते हैं और सिद्धि शक्तियाँ प्राप्त कर सकते हैं। ईश्वरीय ज्ञान और ज्ञान का एक स्थायी चैनल होगा, जो व्यक्ति को बिना

किसी डर के निर्णय लेने की सुविधा प्रदान करेगा। संतुलित मुकुट चक्र वाले व्यक्ति को संस्कृत में गुरु दर्शन के रूप में जाना जाता है। वह ईश्वरीय संदेशों को प्रसारित करने में सक्षम होगा, और उनमें इसे दूसरों तक पहुंचाने की क्षमता है। वे लोगों को उनके चक्र असंतुलन से भी ठीक कर सकते हैं। गुरुओं के पास अहंकार नहीं होगा क्योंकि उन्होंने उनसे आगे निकल गए हैं। एक खुले मुकुट चक्र वाले व्यक्ति की उपस्थिति में होना दूसरे व्यक्ति के लिए शांति, शांति और खुशी प्राप्त करने में फायदेमंद हो सकता है।

ओवरएक्टिव या अंडरएक्टिव क्राउन चक्र (Overactive or Underactive Crown Chakra In Hindi) :

जब आपके सातवें चक्र में प्रचुर मात्रा में या ऊर्जा की कमी होती है, तो आपके शारीरिक, भावनात्मक और मनोवैज्ञानिक शरीर पर कई हानिकारक प्रभाव पड़ सकते हैं। यह अवसाद, अलगाव, उदासीनता, ऊब, सीखने में असमर्थता और आध्यात्मिक संदेह का मार्ग प्रशस्त कर सकता है। इसकी कमी से मानसिक धुंध, पुरानी कमजोरी, माइग्रेन, सीखने की अक्षमता, अस्पष्टता, मस्तिष्क दर्द, लालच, मूलभूत और आराम संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।

क्राउन चक्र में ऊर्जा प्रवाह की रुकावट पार्किंसंस रोग, मिर्गी, अल्जाइमर रोग, मल्टीपल स्केलेरोसिस, फाइब्रोमायल्गिया, न्यूरोलॉजिकल और अंतःस्रावी मुद्दों जैसी शारीरिक बीमारियों का कारण बन सकती है। यह भी नेतृत्व कर सकता है

  • प्रकाश और ध्वनि के प्रति संवेदनशीलता
  • अभिजात्य की भावना
  • दूसरों की मदद को अस्वीकार करने की प्रवृत्ति
  • सुख और नीरसता का अभाव
  • गलत निर्णय के साथ समस्या
  • संतुष्टि की कमी
  • केवल भौतिक संसार से संबंध रखना
  • अस्तित्व के बाद में कोई विश्वास नहीं
  • व्यक्तिगत विशेषताओं का नुकसान
  • मनोविकृति के साथ मुठभेड़

इन मुद्दों का हमारे दिमाग और

शरीर पर भारी प्रभाव पड़ सकता है। आप अपने सातवें चक्र के माध्यम से ऊर्जा का संतुलित प्रवाह करके इन पर काबू पा सकते हैं।

अपने क्राउन चक्र असंतुलन को कैसे संतुलित करें? (How to Balance Your Crown Chakra Imbalances In Hindi) :

हमारे मन और शरीर की भलाई को स्थापित करने के लिए हमारे चक्रों को संतुलित करना आवश्यक है। आपके चक्रों के स्वास्थ्य में सुधार के लिए आपकी जीवन शैली में विभिन्न परिवर्तन लाए जा सकते हैं। स्वस्थ और खुला मुकुट चक्र अनंत चेतना से जुड़ने में अत्यधिक लाभकारी होता है। ध्यान, अरोमाथेरेपी, विज़ुअलाइज़ेशन, योग, क्रिस्टल हीलिंग प्रैक्टिस, उचित आहार लेना और चक्र उपचार पुष्टि को शामिल करना कुछ ऐसे तरीके हैं जो हमारे क्राउन चक्र की जीवन शक्ति में ध्यान देने योग्य परिवर्तन लाते हैं।

विभिन्न चिकित्सा पद्धतियों के बारे में अधिक जानने के लिए पढ़ें जिन्हें आप अपनी दिनचर्या में अपना सकते हैं।

ध्यान (Meditation In Hindi) :

यह हमारे दिमाग को शांत और शांत करने का एक सिद्ध तरीका है। क्राउन चक्र आधारित ध्यान अन्य चक्रों के ध्यान से अलग हैं। यहां आप न केवल अपने चक्र से बल्कि अन्य सांसारिकता से भी जुड़ पाएंगे। अपने सिर के उच्चतम बिंदु को भरने वाली सफेद रोशनी की कल्पना करके प्रारंभ करें। आपको सीधे कमल की स्थिति में बैठना है। आप एक वायलेट टेंगल या तौलिया फैला सकते हैं। अपनी श्वास पर ध्यान केंद्रित करें, और धीरे-धीरे अपनी बाहों को अपने सिर के ऊपर उठाएं। अपने हाथों को अपने क्राउन चक्र में ऊर्जा प्रवाह को निर्देशित करने के लिए कप दें। दस सेकंड के

लिए अपना हाथ अपने मुकुट के पास रखें। आप अपनी बाहों को उसकी मूल स्थिति में वापस लाकर फैला सकते हैं। आप इसे रोजाना पंद्रह मिनट तक दोहरा सकते हैं।

प्रतिज्ञान और जप (Affirmations and Chantings In Hindi) :

क्राउन चक्र से जुड़े बीज मंत्र का जाप करना सहायक होता है क्योंकि इसकी आवृत्ति हमारे सातवें चक्र से मेल खाती है। ऐसे दावे भी हैं जो आपके क्राउन चक्र को ठीक करने में आपकी सहायता कर सकते हैं। वे :

  • मैंने आत्मा और हर एक जीवित प्राणी के साथ एकता प्राप्त कर ली है।
  • मैं दिव्य हूँ।
  • मैं दूसरों का सम्मान करता हूं।
  • मैं निःस्वार्थ और सच्चा हूँ।
  • मुझे आत्मा पर पूरा भरोसा है।

चक्र संतुलन अनुष्ठान सेवाएं (Chakra Balancing Ritual Services In Hindi) :

मुकुट चक्र के पीठासीन देवताओं का आह्वान करने से इस चक्र को संतुलित करने में मदद मिलती है।

खुशबू उपचार (Fragrance Treatment In Hindi) :

इसे अरोमाथेरेपी के रूप में भी जाना जाता है, जहां आवश्यक तेलों की सुगंध हमारे चक्रों को ठीक कर सकती है। चमेली गुलाब और लैवेंडर का तेल एक अति सक्रिय क्राउन चक्र से छुटकारा दिला सकता है। चंदन, लोहबान और लोबान एक निष्क्रिय सातवें चक्र को ठीक कर सकते हैं।

क्रिस्टल हीलिंग अभ्यास (Crystal Healing Practice In Hindi) :

क्रिस्टल और कीमती पत्थरों में हमारे चक्रों के समान कंपन होते हैं। वे चक्रों के माध्यम से ऊर्जा प्रवाह में संतुलन ला सकते हैं। सेलेनाइट, क्लियर क्वार्ट्ज, एमेथिस्ट और डायमंड हमारे क्राउन चक्र के असंतुलन को ठीक कर सकते हैं।

उचित पोषण होना (Having Proper Nourishments In Hindi) :

हमारे द्वारा खाए जाने

वाले भोजन की हमारे चक्रों, विशेष रूप से क्राउन चक्र के स्वास्थ्य को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका होती है। चीनी, एडिटिव्स और कलरिंग जैसे अतिरिक्त पदार्थों वाले खाद्य पदार्थों से बचें। यह हमारे सातवें चक्र की रुकावट की ओर ले जाता है। अपने शरीर में मौजूद किसी भी जहर को बाहर निकालने के लिए नाजुक डिटॉक्स को अपने आहार में शामिल करने का प्रयास करें। अलग-अलग जामुन, पत्तेदार खाद्य पदार्थ, सब्जियां और फाइबर युक्त भोजन करना फायदेमंद होता है।

योग (Yoga In Hindi) :

लगभग सभी योग आसन आपके क्राउन चक्र को ठीक करने में मदद करते हैं। लेकिन यहां कुंजी, अपनी श्वास पर ध्यान केंद्रित करके उन्हें धीरे-धीरे करना है। कपालभाति, प्रसार पदोत्तानासन, मत्स्यासन और सलम्बा सिरसासन कुछ ऐसे आसन हैं जो हमारे सातवें चक्र को ठीक कर सकते हैं।

परम वास्तविकता के साथ विलय करने के लिए हमारे क्राउन चक्र का स्वास्थ्य एक आवश्यक कारक है। यह आपको भौतिकवादी दुनिया से परे शांति, शांति और सांत्वना के आध्यात्मिक क्षेत्र में ले जाता है।