Categories: Dharma

तिथि वृद्धि और तिथि क्षय क्या है? (What is Tithi Vridhi and Tithi Kshaya in Hindi)

तिथि पंचांग का एक महत्वपूर्ण अंग है। तिथि के अनुसार व्रत और उत्सवों का आयोजन किया जाता है। कभी-कभी हम देखते हैं कि 2 दिन कोई उत्सव मनाया जा रहा है। इसके पीछे मुख्य कारण किसी तिथि का बढ़ना या कम होना है। आइये विस्तार में जानिए तिथि वृद्धि और तिथि क्षय क्या है?

तिथि का निर्धारण सूर्योदय से होता है। यदि एक सूर्योदय से दूसरे सूर्योदय के बीच तीन तिथियां हों तो उनमें से एक तिथि अक्षय या घट जाती है। इसी प्रकार यदि एक तिथि दो सूर्योदय तक जारी रहती है, तो उस तिथि को 'वृधि' या बढ़ती हुई तिथि कहा जाता है।

हर व्रत और त्योहार के साथ इन तिथियों का जातक के जीवन पर विशेष प्रभाव पड़ता है। प्रत्येक मास की प्रथम 15 तिथियों को कृष्ण पक्ष तथा अंतिम 15 तिथियों को शुक्ल पक्ष कहा जाता है। कृष्ण पक्ष की 15वीं (30) तिथि को अमावस्या के नाम से जाना जाता है। शुक्ल पक्ष की 15 तारीख को चंद्रमा पूर्ण रूप से दिखाई देता है, इसलिए इस तिथि

को पूर्णिमा कहा जाता है। अमावस्या के दौरान चंद्रमा और सूर्य एक ही भोगांश पर होते हैं।

तारीख क्यों बढ़ती या घटती है? (Why Does a Date Increase or Decrease in Hindi?) :

तिथि का निर्धारण सूर्य और चंद्रमा की गति से होता है। ज्योतिष शास्त्र में 'तिथि वृद्धि' और 'तिथि क्षयी' की व्याख्या की गई है। जब सूर्य और चंद्रमा एक ही अंश में एक साथ होते हैं, तो उस समय को 'अमावस्या' कहा जाता है और जब चंद्रमा सूर्य से 12 डिग्री आगे बढ़ता है तो एक तिथि बनती है और प्रतिपदा, द्वितीया और अन्य तिथियां बनती हैं।

सूर्य और चंद्रमा की गति में बहुत अंतर होता है। एक ओर जहां सूर्य एक राशि को 30 दिनों में पूरा करता है, वहीं दूसरी ओर चंद्रमा को उसे पूरा करने में ढाई दिन लगते हैं। जब चन्द्रमा और सूर्य में यह अन्तर आने लगता है तो प्रतिपदा प्रारम्भ हो जाती है और जब यह अन्तर 12 अंश पर समाप्त हो जाता है तो प्रतिपदा भी समाप्त हो जाती है और उसी के साथ द्वितीया तिथि प्रारम्भ हो जाती है।

किसी तिथि की वृधि और क्षयी मुख्य रूप से चंद्रमा की गति के कारण होती है। चंद्रमा की यह गति घटती-बढ़ती रहती है। कभी चन्द्रमा की गति अधिक होने पर वह 12 अंश की दूरी शीघ्रता से तय कर लेता है तो कभी कम गति के कारण अधिक समय ले सकता है।

'तिथि वृद्धि' और 'तिथि क्षय' का निर्धारण कैसे करें? (How to determine ‘Tithi Vridhi’ & ‘Tithi Kshaya’ in Hindi?) :

सामान्यत: किसी तिथि का भोग काल 60 घंटे का होता है। किसी तिथि की वृधि और क्षयी का निर्धारण सूर्योदय के आधार पर किया जाता है। यदि कोई तिथि सूर्योदय से पहले शुरू हो रही हो और अगले सूर्योदय तक बनी रहे तो इस स्थिति को 'तिथि वृद्धि' कहा जाता है।

उदाहरण के लिए - यदि रविवार को सूर्योदय का समय सुबह 06:32 है, और उस दिन पंचमी तिथि सूर्योदय से पहले 06:15 बजे शुरू होती है, और सोमवार को सुबह 07:53 बजे तक चलती है, सोमवार को सूर्योदय 06 बजे निर्धारित है

:31 AM और उसके बाद षष्ठी तिथि शुरू होती है। इस प्रकार, रविवार और सोमवार दोनों को सूर्योदय के दौरान पंचमी तिथि को 'तिथि वृद्धि' माना जाता है। पंचमी तिथि की कुल अवधि 25 घंटे 36 मीटर है, जो औसतन 60 घटी या 24 घंटे से अधिक है। इस कारण तिथि बढ़ती है।

इस स्थिति के विपरीत, जब कोई तिथि सूर्योदय के बाद शुरू होती है और अगले दिन सूर्योदय के बाद समाप्त होती है तो इसे 'क्षय' या घटाना कहा जाता है, जिसे हम 'तिथि क्षय' कहते हैं। 'तिथि क्षय' का उदाहरण - यदि शुक्रवार को सूर्योदय 07:12 बजे और एकादशी तिथि अगले दिन सूर्योदय के बाद 07:36 बजे समाप्त होकर द्वादशी तिथि में प्रवेश करती है। अब यह द्वादशी तिथि केवल 30:26 मिनट तक ही रहेगी। सुबह 06:26 बजे तक और उसके बाद 'त्रयोदशी तिथि' शुरू होती है। यदि सूर्योदय 07:13 बजे होता है, तो इसका अर्थ है कि 'द्वादशी तिथि' में कोई सूर्योदय नहीं हुआ है। फलतः शुक्रवार को सूर्योदय के समय 'एकादशी तिथि' थी और शनिवार को सूर्योदय के समय 'त्रयोदशी तिथि' थी, इस कारण 'द्वादशी तिथि' से समझौता हो गया जिससे उसका क्षय हो गया।

तिथि के मुख्य नाम (Main Names of Tithis in Hindi) :

प्रत्येक तिथि को एक अलग नाम से जाना जाता है। इन्हीं नामों के आधार पर इनका प्रभाव भी होता है। ये तिथियां के नाम हैं - नंदा, भद्रा, जया, रिक्त और पूर्णा। 1-6-11 को नंदा तिथि के नाम से जाना जाता है, यह तिथि प्रसन्नता दर्शाती है। 2-7-12 को भद्रा तिथि के नाम से जाना जाता है, जो विकास को दर्शाती है। 3-8-13 को जया तिथि के नाम से जाना जाता है, जो विजय को दर्शाती है। 4-9-14 को रिक्त तिथि के रूप में जाना जाता है, जिसे अनुकूल नहीं माना जाता है। 5-10-15 पूर्णा तिथि के अंतर्गत आती है, जो शुभता दर्शाती है।