Categories: Dharma

वैशाख अमावस्या क्या है? (What is Vaishakh Amavasya in Hindi)

वैशाख अमावस्या वैशाख मास की अमावस्या तिथि को मनाई जाती है। इस दिन पवित्र नदियों में स्नान और धार्मिक स्थलों पर जप-तप-दान करने का बहुत महत्व है। आइये विस्तार में जानते है, वैशाख अमावस्या क्या है? (What is Vaishakh Amavasya in Hindi)

वैशाख अमावस्या पर कैसे करें पूजा? (How to Perform Puja on Vaishakh Amavasya?) :

वैशाख अमावस्या में कई अलग-अलग कार्य किए जाते हैं। जिनमें से एक महत्वपूर्ण कार्य हमारे पूर्वजों के प्रति सम्मान और तर्पण का कार्य है। अमावस्या के दिन भक्त को सूर्योदय से पहले उठना चाहिए। यदि आप किसी नदी या जलाशय के पास रहते हैं तो उसमें स्नान करना चाहिए। यदि यह संभव न हो तो घर पर ही स्नान करना पर्याप्त होगा। नहाते समय - नहाने के पानी में गंगाजल, हल्दी और तिल डाल देना चाहिए।

स्नान के बाद श्री हरि की पूजा करनी चाहिए और इष्टदेव की पूजा करनी चाहिए। परिवार के बुजुर्ग सदस्यों का आशीर्वाद लेना चाहिए। इसके साथ ही तांबे के बर्तन में जल सूर्य को अर्पित करना चाहिए। सूर्य देव की पूजा करने के बाद अपने पूर्वजों का स्मरण करना चाहिए।

  • तिल के बीज को पानी में डाल देना चाहिए या दान के रूप में दिया जा सकता है।
  • गरीब और बदकिस्मत लोगों को खाने-पीने की चीजों का दान करना चाहिए।
  • इस दिन पीपल के पेड़ की जड़ों में दूध और पानी डालना चाहिए।
  • ब्राह्मणों को अपनी क्षमता के अनुसार अन्न, वस्त्र, धन आदि का दान करना चाहिए।

वैशाख अमावस्या पर क्यों महत्वपूर्ण है पितृ क्रिया और क्या है इसका महत्व? (Why is Pitra Karya important on the Vaishakh Amavasya and what is its importance in Hindi?) :

वैशाख अमावस्या के संबंध में कहा गया है कि यदि कोई व्यक्ति अपने पूर्वजों के लिए तर्पण नहीं करता है, तो उसके पूर्वजों को कष्ट होता है। जातक पितृ दोष से भी पीड़ित होता है। गरुड़ पुराण के अनुसार जब तक पितरों का श्राद्ध नहीं किया जाता तब तक उन्हें मोक्ष की प्राप्ति नहीं होती है। इसलिए पितृ तर्पण को महत्व दिया गया है क्योंकि अमावस्या पितरों को समर्पित है। एक प्राचीन ग्रंथ के अनुसार भगवान राम ने अपने पिता दशरथ का श्राद्ध और तर्पण किया था, जिससे उनके पिता को मोक्ष की प्राप्ति हुई और उनकी आत्मा स्वर्ग लोक की ओर प्रस्थान कर गई।

इसके अलावा यदि किसी व्यक्ति की कुण्डली में पितृ दोष बन रहा हो या उनके परिवार में शांति का अभाव हो, संतान प्राप्ति का सुख नहीं मिल रहा हो, जीवन में सफलता और सुख नहीं मिल पा रहा हो तो ऐसी स्थिति में पितृ दोष का पालन करना दोष व्यक्ति के लिए मददगार साबित होगा और उन्हें जीवन में सकारात्मकता मिलेगी।

वैशाख अमावस्या कथा (Vaishakh Amavasya Katha in Hindi) :

वैशाख अमावस्या के बारे में कई प्रसिद्ध कथाएँ हैं जिनमें से एक है - प्राचीन काल में एक शहर में धर्मवर्ण नाम का एक ब्राह्मण रहता था। वह ब्राह्मण शुद्ध और सात्विक प्रवृत्ति का था। वह गरीब होते हुए भी हमेशा मन और कर्म से शुभ कार्यों में लगा रहता था। वह हमेशा जरूरतमंदों की मदद करते थे। वह हमेशा संतों और ऋषियों का सम्मान करते थे। सत्संग में भी भाग लेते थे।

एक सत्संग के दौरान उन्होंने जाना कि कलयुग में भगवान विष्णु के नाम का जाप करने से सभी समस्याओं का समाधान हो जाता है और श्री

हरि के नाम का जाप करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है। उन्होंने श्री हरि के नाम का जाप करना शुरू किया और सांसारिक जीवन से मुक्त होने के लिए वानप्रस्थ को अपनाया और संन्यास स्वीकार किया। वे घूमने के दौरान पितृलोक गए। वहाँ वह देखता है कि उसके पूर्वजों को कष्ट हो रहा है।

धर्मवरन जब इस कष्ट का कारण पूछते हैं तो पूर्वज बताते हैं कि सांसारिक जीवन का त्याग और गृहस्थ जीवन का पालन न करने के कारण उनका परिवार आगे नहीं बढ़ सका और इस कारण वे पीड़ित हैं। यदि धर्म वरण की संतान नहीं होगी तो पिंडदान कौन करेगा। हम तड़पते रहेंगे और मुक्ति नहीं मिलेगी। अतः आप हमारी मुक्ति के लिए गृहस्थ जीवन का अनुसरण कर हमारी मुक्ति का मार्ग खोलकर आने वाली वैशाख अमावस्या के दिन हमें पिंडदान करें। यह सुनकर वह अपने पूर्वजों से वादा करता है। वह संन्यास का त्याग कर सांसारिक कार्यों को पूरा करते हुए गृहस्थ जीवन में प्रवेश करता है। उन्हें एक बच्चे का आशीर्वाद मिला और आने वाली अमावस्या पर वे सभी अनुष्ठानों के साथ पिंड दान करते हैं।

वैशाख अमावस्या के दिन अपने खान-पान का रखें ध्यान (Take care of your eating habits on the day of Vaishakh Amavasya in Hindi) :

यदि कोई व्यक्ति इस दिन व्रत रखता है तो उसे शुद्ध और सात्विक आचरण करना चाहिए। यह वह समय है जब शरीर और आत्मा दोनों को शुद्ध होना चाहिए। धार्मिक शास्त्रों में मन, वचन और कर्म की पवित्रता को सदैव महत्व दिया गया है। इन सब में से मन की पवित्रता को अत्यधिक महत्व दिया गया है। शुद्ध मानसिक रूप से शुद्ध की गई तपस्या हमारे अंतःकरण को शुद्ध करती है और हमारी आत्मा को भी पवित्रता से भर देती है। यदि व्रत रखना संभव न हो तो सात्विक भोजन करने से जीवन की अशुद्धता कम हो जाती है। यह स्थिति मन और शरीर दोनों की पवित्रता को प्रभावित करती है।