Categories: Health

स्टैमिना बढ़ाने के लिए क्या खाएं? (What to Eat to Increase Stamina in Hindi)

स्टैमिना बढ़ाने के लिए क्या खाएं : स्टैमिना बढ़ाने के लिए क्या खाएं स्टैमिना या जिसे आंतरिक बल भी कहा जाता है। साफ़ शब्दों में कहा जाये तो स्टैमिना का मतलब यह होता है। व्यक्ति द्वारा किसी भी कार्य को मानसिक या शारीरिक रूप से लंबे समय तक करते रहना/जारी रखना। आमतौर पर स्टैमिना शब्द को शारीरिक कार्यों में जैसे खेल, व्यायाम, पैदल चलना, दैनिक दिनचर्या में मेहनत करने वाले कार्यों के प्रयोग में लाय जानी वाली क्षमता के लिए उपयोग किया जाता है। एक एथलीट में या एक खिलाड़ी में उसकी असली पूंजी या उनकी उत्तम काया नहीं बल्कि उनका स्‍टैमिना होता है।

स्‍टैमिना का मतलब केवल एक लम्बी अवधि के लिए एक गतिविधि को करने के लिए शक्ति और ऊर्जा से ही नहीं है, बल्कि यह बीमारी और तनावपूर्ण स्थितियों से लड़ने में मदद भी करता है। स्टैमिना बढ़ाने के लिए क्या खाएं भागती – दौड़ती जिंदगी में सबसे ज्‍यादा जरूरत होती है शारीरिक शक्ति और स्‍टेमिना की। यदि शरीर में स्‍टेमिना यानी ताकत की कमी होती है तो किसी भी काम को अच्‍छे से नहीं कर सकते हैं।

स्टैमिना बढ़ाने के लिए क्या खाएं थोड़ी दूर तक चलने में या सीढ़ियां चढ़ते समय थकान होने लगे तो इन बातों को अनदेखा नहीं करना चाहिए, क्योंकि ये परेशानियां शरीर में स्टैमिना कम होने के कारण होती हैं। स्टैमिना और ताकत को काफी हद तक एक ही माना जा सकता है। शरीर को ऊर्जा में रहने के लिए स्टेमिना अहम भूमिका निभाता है।

स्टैमिना बढ़ाने के लिए क्या खाएं स्टेमिना बढ़ाने के लिए प्रोटीन (Protein), कैल्शियम (Calcium), आयरन (Iron,), कार्बोहइड्रेट (Carbohydrate), मिनरल्स (Minerals), पोटैशियम

(Potassium), विटामिन्स (Vitamins) से भरपूर चीजों का उपयोग करना होता है, जो आपके स्टेमिना को बढ़ावा देने का काम करता है।
स्टैमिना बढ़ाने के लिए क्या खाएं
स्टैमिना बढ़ाने के लिए क्या खाएं

स्टैमिना कम होने के लक्षण (Stamina Symptoms of Low Stiffness In Hindi) :

स्टैमिना बढ़ाने के लिए क्या खाएं :

  • बिना किसी कारण या बिना मेहनत किये पसीना आना।
  • भूख न लगना।
  • थकान महसूस होना।
  • कमजोरी महसूस होना।
  • हर समय चक्कर आना।
  • आँखों से धुंधला दिखाई देना।
  • आंखों के सामने धुंधलापन छा जाना।
  • काम करने में मन न लगना।
  • हाथों और पैरों में दर्द का महसूस होना।
  • नींद अधिक आना।

स्टैमिना कम होने के कारण (Due to Low Stamina in Hindi) :

स्टैमिना बढ़ाने के लिए क्या खाएं :

दैनिक कार्यों में हल्की थकान होना यह बहुत आम बात है, लेकिन बार- बार थकान होने से शरीर काफी कमजोर हो सकता है। शरीर में स्टैमिना कम होने के कई कारण हो सकते हैं जो इस प्रकार है :

  1. नींद की कमी होना : पुरे दिन में 7 से 8 घंटे की नींद पूरी नहीं हो रही तो इससे शरीर की ताकत धीरे- धीरे खत्म हो जाती है।
  2. पानी कम पीना : पानी की कमी के कारण भी शरीर का स्टैमिना कम हो जाता है। शरीर का 70 प्रतिशत हिस्सा पानी से बना होता है, फिर भी शरीर को पानी की आवश्यकता होती है। शरीर में पर्याप्त पानी की मात्रा नहीं होती है तो स्टैमिना कम होता है।
  3. कार्बोहाइड्रेट की कमी : डाइटिंग के चक्कर में कई लोग कार्बोहाइड्रेट लेना बंद कर देते हैं लेकिन कार्बोहाइड्रेट का सेवन करने से ही शरीर को सबसे ज्यादा ताकत मिलती है।

स्टैमिना बढ़ाने के लिए क्या खाएं? (What to Eat to Increase Stamina in Hindi) :

स्टैमिना बढ़ाने के लिए क्या खाएं :

  • किशमिश : किशमिश में पोटैशियम, मैग्नीशियम, कैल्शियम, फाइबर और आयरन भरपूर मात्रा में पाया जाता है।
  • केसर : अनगिनत गुणों के कारण इसका इस्तेमाल हमेशा से ही किया जाता रहा है। केसर के फूल के तीन भागों में सेफ्रोन स्टिग्मा शामिल होता हैं जो स्टेमिना को बढ़ाने के काम आता है।
  • हरी और काली मिर्च : काली और हरी मिर्च स्वाद में तीखी होने के साथ शरीर में संक्रमण को कम करके शरीर का स्टेमिना बढाती हैं। ये शरीर के रोगों को ठीक करके इम्यून सिस्टम को भी मज़बूत करती हैं।
  • शिलाजीत : शिलाजीत में फुलविक एसिड होता है जो शरीर को खनिजों और तत्वों को सोखने की शक्ति प्रदान करता है।
  • अश्वगंधा : यह यौन शक्ति बढ़ाकर प्रजनन क्रिया को ठीक रखती है।
  • सफेद मुसली : शारीरिक शिथिलता को दूर करने की क्षमता होती है। इसका उपयोग इन्फर्टिलिटी और स्पर्म की कमी को दूर करने के लिए और यौन शक्ति बढ़ाने के लिए किया जाता है।
  • बादाम : में विटामिन ई और ओमेगा -3, फैटी एसिड होता है। ये फैटी एसिड हमारे शरीर को पर्याप्त ऊर्जा प्रदान करने और वसा को शरीर में जमा होने से रोकने में मदद करते हैं। नियमित रूप से बादाम का सेवन हड्डियों को मजबूत बनाता है और मस्तिष्क को तेज करने में भी मदद करता है
  • केला : विटामिन होता है, स्टेमिना को बूूस्ट करने में बहुत मदद करता हैं। इसमें फाइबर और पोटैशियम होता है, जो शरीर में ऊर्जा को बनाए रखता है।
  • खट्टे फल : खट्टे फलों में सबसे अधिक विटामिन सी होता है। विटामिन सी हमारे शरीर के लिए एंटीऑक्‍सीडेंट का काम करता है। यह हमारे
    शरीर के लिए भोजन से आयरन को अवशोषित करने में मदद करता है। खट्टे फल हमें ऊर्जा दिलाने में मदद करते हैं और शरीर की अशुद्धियों को दूर कर प्रतिरक्षा में वृद्धि करते हैं।
  • सेब : सेब में घुलनशील फाइबर, विटामिन और खनिज पदार्थ भी अच्‍छी मात्रा में जो रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक हैं। ऊर्जा दिलाने के साथ ही हीमोग्‍लोबिन के स्‍तर को बढ़ाने में सहायक होता है।
  • ओट्स : पौष्टिक होता है इसका सेवन करने के बाद काफी लंबे समय तक भूख नहीं लगती है। इसमें फाइबर और कैल्शियम की मात्रा भरपूर होती है। ये स्टेमिना बढ़ाने के लिए अच्छा तरीका है।
  • चुकंदर : चुकंदर में विटामिन सी और ए की भरपूर मात्रा होती है, जो आपके स्टेमिना को बढ़ाने में आपकी मदद करता हैं
  • अखरोट : अखरोट का सेवन करने से शरीर का खराब कोलेस्ट्रॉल कम हो जाता है और स्टैमिना को बढ़ावा मिलता है।
  • दूध : दूध में कैल्शियम भरपूर मात्रा में होता है, जो कि शरीर की हड्डियों और दांतों को तो मजबूत करता है।
  • दही : दही में कैल्शियम भरपूर मात्रा में होता है, शरीर के सही तरीके से काम करने के लिए भी बेहद जरूरी है।
  • मूंग दाल : मूंग दाल खाने से शरीर को ताकत मिलती है जिससे शरीर का स्टैमिना बढ़े और उसके शरीर को रीकवर होने में मदद मिटी हहै ।
  • तरबूज : इसमें पानी और इलेक्‍ट्रोलाइट्स की मात्रा अच्‍छी होती है, जिसे खाने से शरीर हाइड्रेटेड रहता है। तरबूज खाने से शरीर को तुरंत एनर्जी मिलती है।
  • शकरकंद : शकरकंद आयरन की कमी को दूर करने में काफी मददगार है।
  • पालक : पालक में आयरन के पोषक तत्व होते हैं जो हमें पूरा दिन एनर्जेटिक रखने के लिए मदद करते हैं।
  • ब्राउन राइस : कार्बोहाइड्रेट भरपूर मात्रा में होता है।
  • चिकन : यह शरीर को स्वस्थ रखता है, ये आपकी मांसपेशियों के विकास को बढ़ावा देता है और वजन कम करता है।
  • अंडे : विभिन्न तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं। ये हड्डियों को मजबूत करने का काम करता है और आपके स्टेमिना को भी बढ़ाता है। कैलोरी को बर्न करने में भी मदद करते हैं। ये शरीर में मसल्स और टिशूज को बनाना और रिपेयर करने का काम करता है।
  • फिश : ओमेगा -3, फैटी एसिड पाया जाता है। ये शरीर और मस्तिष्क के विकास में मदद करता है।

यह भी पढ़े :

अश्वगंधा के औषधीय गुण, फायदे, उपयोग और नुकसान (Ashwagandha Benefits in Hindi)
लिवर एंजाइम क्या है, इसका इलाज कब किया जाता है ?(What is Liver Enzymes, When is it treated in hindi)
ठंड लगकर बुखार का आना टायफॉइड का संकेत, ऐसे पहचानें लक्षण(Fever with chills is a sign of Typhoid, Recognize such Symptoms)

स्टैमिना बढ़ाने के लिए योग (Yoga to Increase Stamina in Hindi) :

स्टैमिना बढ़ाने के लिए क्या खाएं :

  1. भुजंगासन।
  2. धनुरासन।
  3. पश्चिमोत्तासन।
  4. सेतुबंध आसन।
  5. नवासन।
  6. उष्ट्रासन।
  7. पद्मासन।
  8. बकासन।
  9. मत्स्यासन।
  10. शीर्षासन।
स्टैमिना बढ़ाने के लिए क्या खाएं